डरावने थे ये दिन, न जाने कब पुलिस उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लेती

डरावने थे ये दिन, न जाने कब पुलिस उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लेती बेगुनाहों के खिलाफ होकर अखिलेश ने फिर फंसा दिया न्यायिक प्रक्रिया में (शेख मुख्तार, अजीजुर्रहमान, मोहम्मद अली अकबर हुसैन जनवरी 2016 में आतंकवाद के आरोपों से बरी युवक) लखनऊ 10 फरवरी 2017। रिहाई मंच ने आतंकवाद के झूठे आरोप में 8 साल सात महीने बाद रिहा हुए पश्चिम बंगाल के तीन … Continue reading डरावने थे ये दिन, न जाने कब पुलिस उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लेती