हे सवर्ण भाइयों, आओ ‘ऊना क्रांति’ का स्वागत करें, इंसान बनें !- Pankaj Srivastava

मनु जी तुमने वर्ण बना दिए चार ! जा दिन तुमने वर्ण बनाये, न्यारे रंग बनाये क्यों ना ? गोरे ब्राह्मण, लाल क्षत्री, बनिया पीले बनाये क्यों ना ? शूद्र बनाते काले वर्ण के, पीछे का पैर लगाये क्यों ना ? -अछूतानंद स्वामी अछूतानंद के इस सवाल का जवाब तो ब्रह्मा भी नहीं दे सकते, लेकिन ब्रह्मा के मुँह, भुजा, जंघा और पैर से पैदा … Continue reading हे सवर्ण भाइयों, आओ ‘ऊना क्रांति’ का स्वागत करें, इंसान बनें !- Pankaj Srivastava

बहुत मंगलकामनाएं नरसिंह यादव – Dilip Mandal

बहुत खूब! द्रोणाचार्य को अंगूठा नहीं देना है. किसी कीमत पर नहीं. मांगे या जिद करे तो अहिंसक तरीके से पटककर सीने पर चढ़ जाना है. बहुत बहुत मंगलकामनाएं नरसिंह यादव. रियो ओलंपिक से मेडल जरूर लाना.   कुछ मीठा हो जाए? अलविदा आनंदीबेन. अब कभी दलितों से पंगा नहीं लेना. रियो ओलंपिक से मेडल लेकर आना नरसिंह यादव. मुजफ्फरनगर से गौ-आतंकवाद की खबर आ … Continue reading बहुत मंगलकामनाएं नरसिंह यादव – Dilip Mandal