‘Rohingyas have captured the interest of the west as they are backward and liberal muslims.”

‘Rohingyas Issue Isn’t Political In India’ Ravi Hemadri, DAJI Director, talks about Rohingyas in India, lack of media coverage and resettlement issues. Hansa Malhotra,  Geetika Mantri INTERVIEWS Originally from Myanmar, the ‘boat people’ Rohingyas have been recognized by human rights organizations across the world as one of the most heavily persecuted minorities due to the systemic violence and discrimination they have faced in their own … Continue reading ‘Rohingyas have captured the interest of the west as they are backward and liberal muslims.”

इस देश में दो तरह के लोग हैं – Himanshu Kumar

इस देश में दो तरह के लोग हैं एक वो जो पुलिस के पक्ष में हैं दूसरे वो जो पुलिस की मार खा रहे हैं एक वो हैं जो कड़ी मेहनत के काम करते हैं और भूखे सोते हैं दूसरे वो हैं जो मजे से आराम करते हैं लेकिन कार बंगले शॉपिंग मॉल के मजे लुटते हैं एक तरफ वो हैं जिनकी ज़मीन छीनने के … Continue reading इस देश में दो तरह के लोग हैं – Himanshu Kumar

झगड़ा किन के बीच है ? Himanshu Kumar

झगड़ा किन के बीच है दो वर्ग हैं एक जो बहुत मेहनत करता है लेकिन तकलीफ में जिंदगी गुजारता है दूसरा वह वर्ग है जो कड़ी मेहनत नहीं करता लेकिन मज़े में जिंदगी गुजारता है मेहनत किये बिना जो वर्ग मज़े में है वह गालियाँ देने में बिजी है इसे हम आरामखोर वर्ग कहेंगे यह आरामखोर वर्ग मजदूरों को गालियाँ देता है यह आरामखोर वर्ग … Continue reading झगड़ा किन के बीच है ? Himanshu Kumar

आपके पास असल में कुछ भी नहीं है. ना सब्जी ना गेहूं ना मछली ना दूध ना सोना ना हीरा – Himanshu Kumar

आप शहर में रहते हैं ! आप अमीर हैं. लेकिन ध्यान से देखिये आपके पास असल में कुछ भी नहीं है. ना सब्जी ना गेहूं ना मछली ना दूध ना सोना ना हीरा . आपके पास सिर्फ कागज का रुपया है .आपने कागज के रूपये खुद ही छाप लिये .इस कागज का एक काल्पनिक मूल्य है . जैसे कि एक सौ रूपये के बदले कितना … Continue reading आपके पास असल में कुछ भी नहीं है. ना सब्जी ना गेहूं ना मछली ना दूध ना सोना ना हीरा – Himanshu Kumar

Starving to live, not die – Goutham Shivshankar & Suhrith Parthasarathy

Hunger Strike is no crime. To convey one’s point of view to one’s government is everyone’s right. This right is enjoyed not only by Indians but by citizens of all democratic nations. Leaders of Freedom movement and many social- political leaders have gone on Hunger Strikes to make their demands heard. Many have also died during Hunger strikes. In any civilized state the government and … Continue reading Starving to live, not die – Goutham Shivshankar & Suhrith Parthasarathy

Self-Reflection Fast: How should India Behave With Its Tribal Population

Himanshu Kumar, who is on an indefinite fast at Jantar Mantar has received a letter from DCP office stating that the permission for his fast can not be granted. Himanshu Kumar apprehends his forceful eviction. Many activists are meeting at the venue at 4 PM to express their solidarity with Himanshu Kumar and the Tribals of Chattisgarh to chalk out further plan of action. “All … Continue reading Self-Reflection Fast: How should India Behave With Its Tribal Population