एक लम्बी यात्रा की संक्षिप्त कथा – Shyam Anand Jha

एक लम्बी यात्रा की संक्षिप्त कथा 1989 में दरभंगा से जब दिल्ली के लिए रवाना होने की तयारी कर रहे थे, मन में तब भी यह बात थी कि लौटकर यहीं आना है। पिछले 26 सालों में जब भी रात दो रात के लिए, गांव आना हुआ, यही लगा कि अपनी खोई हुई दुनिया में फिर से लौट आया हूँ। कबीर को दरभंगा -ब्रह्मपुरा कभी … Continue reading एक लम्बी यात्रा की संक्षिप्त कथा – Shyam Anand Jha

अख़लाक़ को मारा किसने – Shyam Anand Jha

अख़लाक़ को मारा किसने गोमांस खाना या नहीं खाना मुद्दा नहीं है। इन हत्याओं के पीछे जो मुख्य मुद्दा है उसे हमसे आपसे छिपाया जा रहा है। और ऐसा सिर्फ बीजेपी ही नहीं कर रही। सारा सिस्टम एक साजिश के तहत इस तरह से काम कर रहा है ताकि आपको मूल बातों से दूर रखा जा सके। इस पूरे मामले में जो सवाल उठने चाहिए … Continue reading अख़लाक़ को मारा किसने – Shyam Anand Jha

राजीव गोस्वामी याद है आप को? हार्दिक पटेल याद रहेगा? – श्याम आनंद झा

मंडल कमीशन की सिफारिशों को मंज़ूरी के बाद देश से दिल्ली तक सवर्ण युवकों को भ्रमित कर, एक तरह की सामंती मानसिकता को एक आंदोलन के रंग में पेश किया गया था। लेकिन हार्दिक पटेल के उभार को भी सिर्फ एक राजनीति या सिर्फ एक आंदोलन की तरह देखने की ज़रूरत नहीं है। जब तक इसकी असलियत सामने नहीं आती, तब तक इसको हर कोण से … Continue reading राजीव गोस्वामी याद है आप को? हार्दिक पटेल याद रहेगा? – श्याम आनंद झा