#उड़ताउड़ेंद्रकेखत: डियर अमित, कैसे हो?

डियर अमित, कैसे हो? मालूम है आजकल काफी उलझे हो. मुझे तो खत की शुरूआत में ही ‘ताल’ का गाना याद आ गया.. जो तेरा हाल है वो मेरा हाल है…. तो समझ लो कि सिरदर्द मुझे भी बराबर है. कभी कोई हमारे खिलाफ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर देता है तो कभी हमें प्रेस कॉन्फ्रेंस करानी पड़ रही हैं. ये भी क्या ही ज़िंदगी है छोटे… … Continue reading #उड़ताउड़ेंद्रकेखत: डियर अमित, कैसे हो?