किसी आतंकवादी संगठन से जुड़े सबूत – Rizvi

          मेरा एनकाउंटर कर के  हथियार, गोले, बारूद  किसी आतंकवादी संगठन से जुड़े सबूत  कोई पत्र, कुछ पैसे इत्यादि से मेरी लाश को सजाने से पहले    कम से में कम मेरे शरीर के अंग दान कर देना  ताकि किसी की जान बच जाय  मेरी आँखें भी किसी नेत्रहीन को दे देना    वर्दीवालों डरो नहीं,  मरने के बाद दान की … Continue reading किसी आतंकवादी संगठन से जुड़े सबूत – Rizvi

मेरा घर वहां से शुरू होता है… – रिज़वी

जब मैं तुम्हारी कार के शीशे में अपने चेहरे का अक्स देखता हूँ तुम्हारा चेहरा घिनौना क्यों दिखाई देता है? मैं किसी मंगल गृह से नहीं आया, मैं तो अपने घर का वासी हूँ मेरा घर वहां से शुरू होता है जहाँ तुम्हारी गली का चौकीदार मुझे दौड़ा कर थक जाता है जहाँ पुलिस की वर्दी गन्दी होने लगती है जहाँ नगर निगम के अफ़सर … Continue reading मेरा घर वहां से शुरू होता है… – रिज़वी