क्या है नेहरू के पुरखों को मुसलमान बताने का मक़सद और असलियत !

सोशल मीडिया की बढ़ती धमक के साथ प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की वल्दियत को लेकर सवाल उठाए जाने लगे। विकीपीडिया में संपादन की खुली सुविधा का लाभ यह हुआ कि उनके पितामहों में किसी गयासुद्दीन गाज़ी का नाम जोड़ दिया गया और फिर उसे ‘प्रमाण ‘बतौर पेश किया जाने लगे। बाद में यह झूठ साबित हुआ और जिस कंप्यूटर से ऐसा किया गया वह पीएम मोदी … Continue reading क्या है नेहरू के पुरखों को मुसलमान बताने का मक़सद और असलियत !

किसके पास है बापू की असली विरासत ? नये दस्तावेजों से हुआ सनसनीखेज खुलासा – Rakesh Kayasth

इतिहास को इस देश में हमेशा से तोड़-मरोड़कर पेश किया जाता रहा है। बहुत सारा भ्रम फैलाया जाता रहा है। इनमें सबसे बड़ा भ्रम ये है कि गांधीवाद और मोदीवाद दो अलग-अलग विचारधाराएं हैं। गांधी भी गुजराती, मोदी भी गुजराती। दोनो हिंदू, दोनो को चरखा कातना पसंद, दोनो रामभक्त। जब व्यक्तियों में इतनी समानताएं हैं तो फिर उनके विचार अलग-अलग कैसे हो सकते हैं। कुछ … Continue reading किसके पास है बापू की असली विरासत ? नये दस्तावेजों से हुआ सनसनीखेज खुलासा – Rakesh Kayasth

मैं इस गणतंत्र दिवस पर संविधान के पक्ष में खड़े होने का फैसला करता हूँ – Himanshu Kumar

आज गणतंत्र दिवस है सुबह से देशभक्ति का माहौल गरम है रेडियो पर सैनिकों की वीरता के गाने बज रहे हैं क्या आज के दिवस का ताल्लुक सिपाहियों से है ? क्या आज के दिवस का सम्बन्ध दुश्मन देश और हमारी वीरता से है नहीं आज के दिवस का ताल्लुक तो संविधान के लागू होने से है और संविधान क्या है ? संविधान भारत के … Continue reading मैं इस गणतंत्र दिवस पर संविधान के पक्ष में खड़े होने का फैसला करता हूँ – Himanshu Kumar

पंडितजी के रौशनदान से लटकता प्रचारक- Rakesh Kayasth

प्रिय प्रचारक, तुम हो राष्ट्र तारक। करते हो देश की बड़ी भलाई, लेकिन एक बात अब तक समझ नहीं आई। इतिहास के कूड़ेदान में क्यों भटक रहे हो। बावन साल हो गये नेहरू को गये, लेकिन अब भी तुम तीनमूर्ति का रौशनदान पकड़े लटक रहे हो! माना हर बेडरूम में झांकना तुम्हारा अधिकार है। लेकिन आखिर एक मरे हुए आदमी से तुम्हे क्यों इस कदर … Continue reading पंडितजी के रौशनदान से लटकता प्रचारक- Rakesh Kayasth

JAITLEY CHARGED WITH SEDATION – Vasudevan Narayanpillai

On 20th August, 2016 Arun Jaitley said today that former PM PV Narasimha Rao wasn’t the economic messiah people believe he is, that the UPA neglected productivity, and that the post-independence Nehruvian model led to no development whatsoever. Indian Finance Minister Arun Jaitley said- “That (Nehruvian) model of development was the reason India couldn’t get up to a growth rate of even 1 percent in … Continue reading JAITLEY CHARGED WITH SEDATION – Vasudevan Narayanpillai

संघियों को तो भारत की सत्ता पर कब्ज़ा करना है – Himanshu Kumar

संघियों को तो भारत की सत्ता पर कब्ज़ा करना है उसके लिये ये संघी झूठ , फरेब , धोखा, माफी, हत्या , दंगा, अफवाह का खुले आम इस्तेमाल करते हैं मुजफ्फरनगर , कैराना ,नेहरू , गांधी , किसी भी मुद्दे पर आप संघियों का झूठ आराम से पकड़ सकते हैं व्हाट्‌स एप पर नेहरू की एक फोटो फैलाई जा रही है इस फोटो मैं नेहरू … Continue reading संघियों को तो भारत की सत्ता पर कब्ज़ा करना है – Himanshu Kumar

Worshipping False Gods: An open letter to fellow Indians

A former Union Minister for External Affairs, Salman Khurshid is a practicing lawyer This letter comes from someone many of you have known, supported in myriad ways, honoured with high office, sometimes challenged for opinions you found uncomfortably out of the box, but always given a sense of belonging. It was for that reason that I wrote the book At Home in India and the … Continue reading Worshipping False Gods: An open letter to fellow Indians

Gandhi on secular law and state – Anil Nauriya

Gandhi and Nehru had differences. But they had strong mutual synergies on vital issues.   Gandhi and Nehru had differences. But they had strong mutual synergies on vital issues. BEFORE THE mid-19th century, the term secular was sometimes used with contempt. For the clergy, in particular, it was almost a synonym for the uninitiated or “ignorant”. The term was sought to be popularised in its … Continue reading Gandhi on secular law and state – Anil Nauriya

क्या हम सभी को खुद को कट्टर हिदू मानना चाहिये ? – Himanshu Kumar

 मेरे ताउजी बीच में बैठे हुए . दायें कोने में नेहरु जी बैठे हैं मेरे पड़दादा उत्तर प्रदेश में महर्षी दयानन्द के प्रथम शिष्य थे . मुजफ्फर नगर में महर्षी दयानंद हमारे घर में ठहरते थे . मेरे पड़दादा जी ने ब्राह्मणों के रंग ढंग का विरोध किया तो उन्हें ज़हर दे दिया गया था . मेरे पड़दादा जी ने कई किताबें लिखी थीं जिनमे … Continue reading क्या हम सभी को खुद को कट्टर हिदू मानना चाहिये ? – Himanshu Kumar