किसके पास है बापू की असली विरासत ? नये दस्तावेजों से हुआ सनसनीखेज खुलासा – Rakesh Kayasth

इतिहास को इस देश में हमेशा से तोड़-मरोड़कर पेश किया जाता रहा है। बहुत सारा भ्रम फैलाया जाता रहा है। इनमें सबसे बड़ा भ्रम ये है कि गांधीवाद और मोदीवाद दो अलग-अलग विचारधाराएं हैं। गांधी भी गुजराती, मोदी भी गुजराती। दोनो हिंदू, दोनो को चरखा कातना पसंद, दोनो रामभक्त। जब व्यक्तियों में इतनी समानताएं हैं तो फिर उनके विचार अलग-अलग कैसे हो सकते हैं। कुछ … Continue reading किसके पास है बापू की असली विरासत ? नये दस्तावेजों से हुआ सनसनीखेज खुलासा – Rakesh Kayasth

Gandhi, Aligarh and two minutes of silence- Sehba Imam

I grew up in a fanatically secular home, with no gods but lots of festivals… Still the idea of God and reverence was all around – so, as a child I wasn’t clear who stood for what but knew that some figures were special – Ram, Muhammad, Christ, Gandhi and Lenin, they had to be spoken of with lot of respect and followed as an … Continue reading Gandhi, Aligarh and two minutes of silence- Sehba Imam

सवर्णों का समाज सुधर नहीं रहा है- Dilip Mandal

सवर्णों को जाति के नाम पर नफरत बंद करने का सबक देने के लिए ओबामा या पुतिन नहीं आएंगे. समाज सुधार के लिए यहीं पर किसी को यह काम करना होगा. सवर्ण बुध्दिजीवी, चिंतक, एक्टिविस्ट यह करने को तैयार नहीं हैं. गांधी की तरह वे भी “हरिजनों” को ही जगाना चाहते हैं. हरिजन जाग – जाग कर परेशान है. इतना सामाजिक जागरण हुआ है कि … Continue reading सवर्णों का समाज सुधर नहीं रहा है- Dilip Mandal

Beyond Doubt- A Dossier on Gandhi’s Assasination

The assassination of Mahatma Gandhi on 30 January 1948 was a declaration of war and a statement of intent. For the forces who conspired in the killing, the act was a declaration of war against the secular, democratic Indian state and all those who stood to affirm these principles, as well as an announcement of a lasting commitment to India as a ‘Hindu Rashtra’. It … Continue reading Beyond Doubt- A Dossier on Gandhi’s Assasination