आर्यावर्त का सोशल मीडिया – Rakesh Kayasth

एविएशन, स्टेम सेल और प्लास्टिक सर्जरी जैसे सभी आधुनिक वैज्ञानिक तकनीकों के चिन्ह हमारी महान सभ्यता के इतिहास में मिलते हैं। लिहाजा तर्क यही कहता है कि जुकरबर्ग के पैदा होने से कई कोटि वर्ष पहले सोशल मीडिया भी भारत में रहा होगा। प्रस्तुत हैं, इसी तर्क पर आधारित कुछ पौराणिक कथाएं, देवताओं और पौराणिक पात्रों को सो सॉरी हैशटैग के साथ। 1. अप्सरा शकुंतला … Continue reading आर्यावर्त का सोशल मीडिया – Rakesh Kayasth

Butter Tea ruminations at Norbulingka – Rukmini Sen

Photo Credit: Rukmini Sen It was raining ferociously when we reached our hotel somewhere between Mcleodganj and Dharamkot on the evening of fourth of July. We advised ourselves to stay indoors. You don’t step out on a rainy night in a terrain you don’t understand. My partner Suresh and I had settled for the TV show “The Durrells (based on “The Corfu Trilogy” by Gerald … Continue reading Butter Tea ruminations at Norbulingka – Rukmini Sen

गीता पर खतरनाक राजनीति -(कॅंवल भारती)

तवलीन सिंह वह पत्रकार हैं, जिन्होंने लोकसभा चुनावों में नरेन्द्र मोदी के पक्ष में लगभग अन्धविश्वासी पत्रकारिता की थी। लेकिन अब वे भी मानती हैं कि ‘मोदी सरकार ने जब से सत्ता सॅंभाली है, एक भूमिगत कट्टरपंथी हिन्दुत्व की लहर चल पड़ी है।’ उनकी यह टिप्पणी साध्वी निरंजन ज्योति के ‘रामजादे-हरामजादे’ बयान पर आई है। लेकिन इससे कोई सबक लेने के बजाए यह भूमिगत हिन्दू … Continue reading गीता पर खतरनाक राजनीति -(कॅंवल भारती)