#उड़ताउड़ेंद्रकेखत: डियर अमित, कैसे हो?

डियर अमित, कैसे हो? मालूम है आजकल काफी उलझे हो. मुझे तो खत की शुरूआत में ही ‘ताल’ का गाना याद आ गया.. जो तेरा हाल है वो मेरा हाल है…. तो समझ लो कि सिरदर्द मुझे भी बराबर है. कभी कोई हमारे खिलाफ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर देता है तो कभी हमें प्रेस कॉन्फ्रेंस करानी पड़ रही हैं. ये भी क्या ही ज़िंदगी है छोटे… … Continue reading #उड़ताउड़ेंद्रकेखत: डियर अमित, कैसे हो?

मी लार्ड ! भगवान करे आपसे किसी का पाला ना पड़े..- Rakesh Kayasth

उन दिनों मैं एक बच्चा पत्रकार हुआ करता था। रिपोर्टर के तौर पर मेरे पास जो बीट्स थी, उनमें MRTP commission भी शामिल था। अंग्रेजी में monopolies and restrictive trade practices commission, हिंदी नाम— प्रतिबंधित और एकाधिकार व्यापार व्यवहार आयोग। कमीशन का दफ्तर दिल्ली के शाहजहां रोड पर था, जहां उसकी अपनी अदालत लगती थी। विधिसम्मत आचरण ना करने वाली कंपनियों के खिलाफ मुकदमे चलते … Continue reading मी लार्ड ! भगवान करे आपसे किसी का पाला ना पड़े..- Rakesh Kayasth