Gandhi’s Human Touch – A Lecture by Professor Madhu Dandwate

(Very often Gandhi was considered a very stern and uncompromising individual, one who was not willing to tolerate weaknesses in himself as well as others.Some thought him to be inhuman in his quest for freedom and perfection.In his lecture Professor Dandwate gives us ample incidences whereby one realizes that there was a very humourous and humane side to Gandhi.The authenticity of the incidents enumerated by … Continue reading Gandhi’s Human Touch – A Lecture by Professor Madhu Dandwate

….और देश सोने की चिड़िया बन जायेगा! — क़मर वहीद नक़वी

      लो जी, अब ख़ुश! लहर आ गयी है! सब जगह लहर बोल रही है. देखो रे देखो, मैं आ गयी! टीवी वाले, अख़बार वाले बता रहे हैं. जैसे मानसून आता है, वैसे ही बता रहे हैं लहर आ रही है. लोग लहरा रहे हैं! भीग-भीग कर झूम रहे हैं! वैसे ही जैसे पब और डिस्कोथिक में लहराते हैं, झूमते हैं. नाचो, गाओ, … Continue reading ….और देश सोने की चिड़िया बन जायेगा! — क़मर वहीद नक़वी