Gujarat Files-2: ”उसे जीने का कोई हक़ नहीं है, मार डालो”!

राणा अयूब      राजन प्रियदर्शी गुजरात एटीएस के महानिदेशक 2007 में थे जब फर्जी मुठभेड़ में हुई हत्‍याओं की जांच गुजरात सीआइडी ने शुरू की थी। इतना ही नहीं, 2002 के दंगे के दौरान वे राजकोट के आइजी भी थे। उन्‍होंने हमें चौंकाने वाली बात बताई कि उनके गांव का एक नाई उनके बाल काटने से मना कर देता था इसलिए उन्‍हें दलित निवास … Continue reading Gujarat Files-2: ”उसे जीने का कोई हक़ नहीं है, मार डालो”!

शमीमा बी, तुम्हें दिल की गहराइयों से सलाम: सबा दीवान

  मैँ कॉलेज जानी वाली उस 19 साल की लड़की के बारे में सोच रही थी. अगर मेरी बेटी होती तो उसकी उम्र भी करीब इतनी ही होती. इस ख्याल ने मुझे उसकी माँ के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया. मैं शमीमा कौसर से कभी मिली नहीं हूँ. मुझे तो उनके बारे में वही पता है जो न्यूजपेपरों ओर टीवी में आया है. … Continue reading शमीमा बी, तुम्हें दिल की गहराइयों से सलाम: सबा दीवान

आत्मा से मुठभेड़ की चुनौती: अपूर्वानंद

इशरत जहाँ एक उन्नीस साल की लड़की थी जब वह मारी गई.शायद उसके बारे में इसके अलावा इस निश्चितता के साथ हम कुछ और कभी नहीं जान पाएंगे. इसकी वजह सिर्फ यह है कि जिन्हें इस देश में सच का पता लगाने का काम दिया गया है वे एक लंबे अरसे से झूठ को सच की तरह पेश करने का आसान रास्ता चुनने के आदी … Continue reading आत्मा से मुठभेड़ की चुनौती: अपूर्वानंद

Fake IB Alerts: Ishrat Jahan Fake Encounter

  From today, we start a daily bulletin commenting on the most obnoxious, planted news stories and commentaries of the day. R. Jagannathan’s “The Modi factor and the fake outrage over Ishrat Jahan” wins the fake honour of appearing in the inaugural bulletin. Here are some gems from the article. “The truth is Modi makes us all insecure and uncomfortable. Not because of who he … Continue reading Fake IB Alerts: Ishrat Jahan Fake Encounter

सफेदी-काली दाढ़ियों से टपक रहा है इशरत का लहूः आशुतोष कुमार

यह एक ऐसी सचाई है जिसका सामना करना आसान नहीं है . क्या यह मुमकिन है कि आईबी झूठी ख़ुफ़िया जानकारियाँ पुलिस को देती हो , जिसके आधार पर पुलिस झूठी मुठभेड़ों की योजना बना सके , जिसे सफ़ेद , काली और सफ़ेद-काली दाढ़ियों के इशारे पर अंजाम दिया जा सके ?  इशरत जहां मामले में एक पुलिस अधिकारी ने इल्जाम लगाया है कि आईबी … Continue reading सफेदी-काली दाढ़ियों से टपक रहा है इशरत का लहूः आशुतोष कुमार

जांच से पहले इंडिया टुडे के पत्रकार का फैसला: शाहनवाज़ मलिक

इशरत जहां फर्ज़ी मुठभेड़ मामले की जांच सीबीआई कर रही है। सीबीआई ने अब तक की जांच में गुजरात पुलिस के कई अधिकारियों के अलावा इंटलिजेंस ब्यूरो के आला अफसर राजेंद्र कुमार की भूमिका पर सवालिया निशान लगाया है। सीबीआई  जांच पूरी होने के बाद ही यह पता चल पाएगा कि 15 जून 2004 को अहमदाबाद में जिन चार लोगों की हत्या की गई, वे … Continue reading जांच से पहले इंडिया टुडे के पत्रकार का फैसला: शाहनवाज़ मलिक