Hillele report: Times of India कि लोकतंत्र के ख़िलाफ़ ‘सुपारी पत्रकारिता’

#TimesofIndia #SoniaGandhi #AssetsofCongress टाइम्स ऑफ इंडिया, लखनऊ संस्करण में एक विशेष पन्ना, चौथे पेज पर ‘Dance of Democracy’ और उस पर बिग बॉटम में (तस्वीर में देखें) ये ख़बर, जो बता रही है कि ‘पिछले 5 सालों में सोनिया गांधी की सम्पत्ति 21 फीसदी बढ़ी, जिसमें इटली में उनकी पारिवारिक सम्पत्ति में हिस्सा भी शामिल है।’ इस ख़बर में लिखा गया था कि सोनिया की … Continue reading Hillele report: Times of India कि लोकतंत्र के ख़िलाफ़ ‘सुपारी पत्रकारिता’

What is Smriti Irani smoking?- Rukmini Sen

a) Taking a dig at Rahul Gandhi’s “fortunes”, Smriti Irani, recently said “Its amazing how someone who has not been consistently employed for years has more money than me and my husband” b) Smriti Irani , who is the BJP contestant for the Amethi Lok Sabha seat in UP, in her nomination declared that her family’s assets amounted to Rs 9 crore. Smriti Irani suffers … Continue reading What is Smriti Irani smoking?- Rukmini Sen

क्या है नेहरू के पुरखों को मुसलमान बताने का मक़सद और असलियत !

सोशल मीडिया की बढ़ती धमक के साथ प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की वल्दियत को लेकर सवाल उठाए जाने लगे। विकीपीडिया में संपादन की खुली सुविधा का लाभ यह हुआ कि उनके पितामहों में किसी गयासुद्दीन गाज़ी का नाम जोड़ दिया गया और फिर उसे ‘प्रमाण ‘बतौर पेश किया जाने लगे। बाद में यह झूठ साबित हुआ और जिस कंप्यूटर से ऐसा किया गया वह पीएम मोदी … Continue reading क्या है नेहरू के पुरखों को मुसलमान बताने का मक़सद और असलियत !

Indira Gandhi – Interview – TV Eye – 1978

An interview with Indian Prime Minister Indira Gandhi. Mrs. Gandhi is asked some rather uncomfortable questions by Thames Televisions Jonathan Dimbleby regarding Indian Politics and the crack down on the press while she was Prime Minister. Mrs. Gandhi is also asked whether she would ever run for Prime Minister again. First Broadcast in 16/11/1978 If you wish to license any clips from our programmes for … Continue reading Indira Gandhi – Interview – TV Eye – 1978

इंदिरा दुर्गा और नेहरू खलनायक क्यों? – Rakesh Kayasth

  देश के इतिहास में संघियों के पिटने और जेल जाने की अगर कोई वाकया है, तो वह सिर्फ इमरजेंसी के दौर का है। लिखित माफी की भी कुछ कहानियां हैं। लेकिन यह सच है कि समाजवादियों के साथ संघियों ने भी इमरजेंसी के दौरान इंदिरा सरकार की प्रताड़ना सही। इतिहास बोध आजकल एक विलुप्तप्राय चीज़ है। लेकिन पुराने पत्रकारों से बात कीजिये तो पता … Continue reading इंदिरा दुर्गा और नेहरू खलनायक क्यों? – Rakesh Kayasth

JAITLEY CHARGED WITH SEDATION – Vasudevan Narayanpillai

On 20th August, 2016 Arun Jaitley said today that former PM PV Narasimha Rao wasn’t the economic messiah people believe he is, that the UPA neglected productivity, and that the post-independence Nehruvian model led to no development whatsoever. Indian Finance Minister Arun Jaitley said- “That (Nehruvian) model of development was the reason India couldn’t get up to a growth rate of even 1 percent in … Continue reading JAITLEY CHARGED WITH SEDATION – Vasudevan Narayanpillai

Mar 26 काँग्रेस : बस ‘टीना’ में ही जीना – क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi

प्रशान्त किशोर ने काँग्रेस को एक ‘क्विक फ़िक्स’ फ़ार्मूला दिया है. ब्राह्मणों को पार्टी के तम्बू में वापस लाओ. फ़ार्मूला सीधा है. जब तक ब्राह्मण काँग्रेस के साथ नहीं आते, तब तक उत्तर प्रदेश में मुसलमान भी काँग्रेस के साथ नहीं आयेंगे. क्योंकि मुसलमान तो उधर ही जायेंगे, जो बीजेपी के ख़िलाफ़ जीत सके. मायावती के कारण अब दलित तो टूटने से रहे. तो कम … Continue reading Mar 26 काँग्रेस : बस ‘टीना’ में ही जीना – क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi

Worshipping False Gods: An open letter to fellow Indians

A former Union Minister for External Affairs, Salman Khurshid is a practicing lawyer This letter comes from someone many of you have known, supported in myriad ways, honoured with high office, sometimes challenged for opinions you found uncomfortably out of the box, but always given a sense of belonging. It was for that reason that I wrote the book At Home in India and the … Continue reading Worshipping False Gods: An open letter to fellow Indians

Of all dissenters who now live in fear and uncertainty, I am returning my Sahitya Akademi Award – Nayantara Sahgal

Protesting what she called a “vicious assault” on “India’s culture of diversity and debate” and questioning the silence of the Prime Minister on “this reign of terror”, including the lynching last week of a man in Dadri over rumours of beef consumption, writer Nayantara Sahgal said on Tuesday she was returning her Sahitya Akademi award. Ashok Vajpeyi, former chairperson of the Lalit Kala Akademi, also … Continue reading Of all dissenters who now live in fear and uncertainty, I am returning my Sahitya Akademi Award – Nayantara Sahgal