अपना सिर कलम कर लेंगी, तो किसी के भी पैर पर कैसे रखेंगी – Dilip Mandal

  दो बातें. एक, अपना सिर कलम कर लेंगी, तो किसी के भी पैर पर कैसे रखेंगी. और दो, कोटे से बाहर जाकर किसी को एडमिशन देने का मतलब होता है किसी का हक मारना. कितने हजार बच्चों का हक मारा? जिनका एडमिशन नहीं हुआ है उन्हें चाहिए कि इस कबूलनामे के बाद, मनुस्मृति ईरानी को कोर्ट में घसीटें. बच्चों से हेराफेरी नहीं चलेगी.   … Continue reading अपना सिर कलम कर लेंगी, तो किसी के भी पैर पर कैसे रखेंगी – Dilip Mandal