नेहरू हर महीने नेताजी सुभाष की बेटी को आर्थिक मदद भेजते रहे, पर विज्ञापन नहीं किया!

प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने ‘डिस्कवरी ऑफ़ इंडिया’ जैसी किताब लिखकर इतिहास को भले ही समृद्ध किया हो, लेकिन लोगों में इतिहास के प्रति दिलचस्पी तो मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ही जगाई है। इसके लिए देश की नौजवान पीढ़ी को ख़ासतौर पर उनका आभारी होना चाहिए। वे अपने भाषणों में अगर यक़ीन से परे दावों की मुसलसल धार न छोड़ते तो लोग इतिहास के … Continue reading नेहरू हर महीने नेताजी सुभाष की बेटी को आर्थिक मदद भेजते रहे, पर विज्ञापन नहीं किया!

क्या है नेहरू के पुरखों को मुसलमान बताने का मक़सद और असलियत !

सोशल मीडिया की बढ़ती धमक के साथ प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की वल्दियत को लेकर सवाल उठाए जाने लगे। विकीपीडिया में संपादन की खुली सुविधा का लाभ यह हुआ कि उनके पितामहों में किसी गयासुद्दीन गाज़ी का नाम जोड़ दिया गया और फिर उसे ‘प्रमाण ‘बतौर पेश किया जाने लगे। बाद में यह झूठ साबित हुआ और जिस कंप्यूटर से ऐसा किया गया वह पीएम मोदी … Continue reading क्या है नेहरू के पुरखों को मुसलमान बताने का मक़सद और असलियत !

Inside the #MeToo revolt at Google

Kristen Sheets reports on the walkout at Google — why it happened, how it was organized, what it achieved and what it tells us about organizing the tech sector.   THE NOVEMBER 1 walkout by 20,000 Google employees at some 50 offices around the world may be the largest international action of its kind in modern labor history — and it shined a spotlight on … Continue reading Inside the #MeToo revolt at Google

Sticky post

Analysing Mallika Akbar’s statement- Rukmini Sen

Analysing Mallika Akbar’s statement on Pallavi Gogoi’s Washington Post article. Mrs Akbar is a renowned Psychoanalyst. She is considered ethical and dependable by many. There is no reason not to believe Mallika Akbar. However, while Mrs Akbar may be a victim of infidelity she is not the main victim/survivor of this story. In  the way Malika Akbar has positioned her narrative she has clearly come … Continue reading Analysing Mallika Akbar’s statement- Rukmini Sen

#MeToo: Those who demand ‘due process’ must first live by ‘due process’- Indira Jaisingh

Justice for women means the right to work, expecting their employers to understand and prevent sexual harassment at the workplace, zero tolerance of sexual harassment by employers, providing a mechanism to raise complaints when it happens. When employers fail in their duty to prevent sexual harassment, or even to recognise its existence under their nose, where is the question of ‘due process’?   The #MeToo … Continue reading #MeToo: Those who demand ‘due process’ must first live by ‘due process’- Indira Jaisingh