The #Sanskari hero raped her says TARA’s producer Vinta Nanda

Vinta Nanda, the veteran producer and writer of super successful and trend setting show TARA on a post on social networking site said the #Sanskari hero of Hindi films and TV had raped her twenty years ago. Vinta writes – ” His wife was my best friend. We were in and out of each other’s homes, we belonged to the same group of friends, most … Continue reading The #Sanskari hero raped her says TARA’s producer Vinta Nanda

डियर डोनल्ड तुम्हारा, उड़ता उड़ेंद्र – Nitin Thakur

डियर डोनल्ड, जब ये खत तुम्हें मिलेगा तब मैं शायद नीदरलैंड्स के प्रधानमंत्री रूट के गले पड़ रहा हूंगा…. वो.. मेरा मतलब.. गले लग रहा हूंगा। भले ही मैं अमेरिका से निकलकर अब समंदर के ऊपर हवा में हूं लेकिन मेरा दिल वहीं व्हाइट हाउस के किसी कोने में ठहर गया है। कितना सुखद था तुमसे और मेलानिया भाभी से मिलना!!! उन्होंने कल रात जिस … Continue reading डियर डोनल्ड तुम्हारा, उड़ता उड़ेंद्र – Nitin Thakur

ATMs without money are still the norm – Renuka Shahane

The 1st of December has gone by. Long queues outside banks and ATMs without money are still the norm. If Demonetization has shown the colossal failure of implementation of a perfectly good idea with perfectly good intentions, it has also shown the strength & resilience of our citizens. People working in banks are still working beyond their normal call of duty, working overtime, canceling holiday … Continue reading ATMs without money are still the norm – Renuka Shahane

Sanghis, Sex and University Students: What is it Really All About? –

Having stopped laughing at last, some thoughts. ———————————————————— Sanghi smut is in season again! For the authors of the Dirty Dossier, JNU nights are forever scented with musk, with couples draped on every bush, suitably fortified by free alcohol, thoughts of secession, and cash payments supplied by the Awesome Foursome. At its peak, the party can practically involve the whole university, because as per Shri … Continue reading Sanghis, Sex and University Students: What is it Really All About? –

ताकि रोज़ का यह टंटा ख़त्म हो!- क़मर वहीद नक़वी

राग देश  | क़मर वहीद नक़वी By: Qamar Waheed Naqvi दिल्ली में जेएनयू के मामले पर और हरियाणा में आरक्षण के मुद्दे पर जो कुछ हुआ, उसके संकेत एक बड़ी चेतावनी हैं. हरियाणा में चुन-चुन कर जैसे ग़ैर-जाटों को निशाना बनाया गया, वह भयानक था. देश भीतर-भीतर कितना बँट चुका है, कैसी नफ़रतें पसर चुकी हैं? देश को इस भीड़तंत्र में बदल देने का जुआ बहुत … Continue reading ताकि रोज़ का यह टंटा ख़त्म हो!- क़मर वहीद नक़वी

Feb 13 निशानची बहसों के दौर में!- क़मर वहीद नक़वी

14 अगस्त 2015 को आसिया अन्दराबी ने पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस मनाया और लश्कर-ए-तय्यबा के आतंकवादियों को फ़ोन पर सम्बोधित भी किया, तब तो ऐसा कोई हंगामा नहीं हुआ. आठ महीने पहले जम्मू में भिंडरावाले का ‘शहीदी दिवस’ मनाने के लिए पोस्टर लगाना देशद्रोह नहीं था क्या? तब वहाँ ख़ालिस्तान और पाकिस्तान समर्थक नारे भी लगे. क्या वह देशद्रोह नहीं था? दोनों ही घटनाओं के समय … Continue reading Feb 13 निशानची बहसों के दौर में!- क़मर वहीद नक़वी