In Ballia In 1981 To Cover the Rape of a Young Dalit Girl

SEEMA MUSTAFA | 31 MAY, 2019     It was 1981. I was a cub reporter in the Indian Express covering crime, plus everything else that took my fancy. It was a delightful period, post Emergency when journalism and journalists were charged with new passion, a “we will not allow any government interference” mood. The Indian Express was a reporters newspaper, never really belonging to … Continue reading In Ballia In 1981 To Cover the Rape of a Young Dalit Girl

What is Smriti Irani smoking?- Rukmini Sen

a) Taking a dig at Rahul Gandhi’s “fortunes”, Smriti Irani, recently said “Its amazing how someone who has not been consistently employed for years has more money than me and my husband” b) Smriti Irani , who is the BJP contestant for the Amethi Lok Sabha seat in UP, in her nomination declared that her family’s assets amounted to Rs 9 crore. Smriti Irani suffers … Continue reading What is Smriti Irani smoking?- Rukmini Sen

Indira Gandhi – Interview – TV Eye – 1978

An interview with Indian Prime Minister Indira Gandhi. Mrs. Gandhi is asked some rather uncomfortable questions by Thames Televisions Jonathan Dimbleby regarding Indian Politics and the crack down on the press while she was Prime Minister. Mrs. Gandhi is also asked whether she would ever run for Prime Minister again. First Broadcast in 16/11/1978 If you wish to license any clips from our programmes for … Continue reading Indira Gandhi – Interview – TV Eye – 1978

गांधी, चार्ली, चर्चिल और मशीन -3 (Nitin Thakur)

1931 में जब चार्ली चैप्लिन गांधी से मिल रहे थे तब उन्हें बाज़ार में बढ़ते मशीनीकरण के नुकसानों का उतना अंदाज़ा नहीं था। दुनिया बहुत तेज़ी के साथ मशीनों पर निर्भर होती जा रही थी। पहले विश्वयुद्ध के बाद बर्बाद हुए देश तेज़ी से खड़े होने के लिए मशीनों पर सवार थे और जर्मनी उनमें सबसे आगे था। अंग्रेज़ों ने भी मैनचेस्टर में मशीनों से … Continue reading गांधी, चार्ली, चर्चिल और मशीन -3 (Nitin Thakur)

गांधी, चार्ली, चर्चिल और मशीन -2 (Nitin Thakur)

चार्ली चैप्लिन महात्मा गांधी से मिलना चाहते थे जिसके लिए कैनिंग टाउन में डॉक्टर चुन्नीलाल कतियाल के यहाँ 22 सितम्बर 1931 की शाम का वक्त तय हुआ। खुद चैप्लिन ने इस रोचक मुलाकात को आत्मकथा में सहेजा है। उस वक्त का एक फोटो रिकॉर्ड्स में मिलता है जिसमें गांधी गाड़ी से बाहर आ रहे हैं और उन्हें लोगों ने चारों तरफ से घेर रखा है। … Continue reading गांधी, चार्ली, चर्चिल और मशीन -2 (Nitin Thakur)

गांधी और अंबेडकर के एक होने का वक्त आ गया है – Rakesh Kayasth

इतिहास के कुछ कालखंड निर्णायक होते हैं। हम एक ऐसे ही निर्णायक कालखंड में दाखिल हो चुके हैं। यह समय बीसवीं सदी के दो सबसे प्रखर बौद्धिक विचारों के एक होने का है। वो विचार जिन्हे हमेशा दो अलग ध्रुव माना गया और दोनो अलग-अलग रहे भी। ये विचार हैं, गांधीवाद  और अंबेडकरवाद। तीस के दशक में गांधी और अंबेडकर के बीच गहरा वैचारिक और … Continue reading गांधी और अंबेडकर के एक होने का वक्त आ गया है – Rakesh Kayasth

किसके पास है बापू की असली विरासत ? नये दस्तावेजों से हुआ सनसनीखेज खुलासा – Rakesh Kayasth

इतिहास को इस देश में हमेशा से तोड़-मरोड़कर पेश किया जाता रहा है। बहुत सारा भ्रम फैलाया जाता रहा है। इनमें सबसे बड़ा भ्रम ये है कि गांधीवाद और मोदीवाद दो अलग-अलग विचारधाराएं हैं। गांधी भी गुजराती, मोदी भी गुजराती। दोनो हिंदू, दोनो को चरखा कातना पसंद, दोनो रामभक्त। जब व्यक्तियों में इतनी समानताएं हैं तो फिर उनके विचार अलग-अलग कैसे हो सकते हैं। कुछ … Continue reading किसके पास है बापू की असली विरासत ? नये दस्तावेजों से हुआ सनसनीखेज खुलासा – Rakesh Kayasth