हे सवर्ण भाइयों, आओ ‘ऊना क्रांति’ का स्वागत करें, इंसान बनें !- Pankaj Srivastava

मनु जी तुमने वर्ण बना दिए चार ! जा दिन तुमने वर्ण बनाये, न्यारे रंग बनाये क्यों ना ? गोरे ब्राह्मण, लाल क्षत्री, बनिया पीले बनाये क्यों ना ? शूद्र बनाते काले वर्ण के, पीछे का पैर लगाये क्यों ना ? -अछूतानंद स्वामी अछूतानंद के इस सवाल का जवाब तो ब्रह्मा भी नहीं दे सकते, लेकिन ब्रह्मा के मुँह, भुजा, जंघा और पैर से पैदा … Continue reading हे सवर्ण भाइयों, आओ ‘ऊना क्रांति’ का स्वागत करें, इंसान बनें !- Pankaj Srivastava

Sheetal Sathe & Troupe at Lamakaan for #JusticeForRohith – 1

Published on Feb 15, 2016 http://www.lamakaan.com/events/2820 “It may be recalled that the KKM, a working class and mostly Dalit cultural troupe, was forced to go into hiding in 2011 after the police arrested and tortured one of them on suspicion of associating with Naxalites. In 2012 a documentary film “Jai Bhim Comrade” featuring the KKM won a National Award and a Maharashtra State award. The … Continue reading Sheetal Sathe & Troupe at Lamakaan for #JusticeForRohith – 1

इस्लामी आतंकवाद या फिर हिन्दू चरमपंथ? – संजय तिवारी

07/07/2013 23:45:00 रविवार की सुबह बोधगया के पवित्र महाबोधि मंदिर में लगातार नौ बम विस्फोट क्या कोई सीरीयल बम ब्लास्ट थे जैसा कि आमतौर पर आतंकी कार्रवाइयों के वक्त नजर आता है? या फिर कुछ सिरफिरों की ऐसी कारस्तानी थी जो बिहार में नीतीश सरकार को बदनाम करने के साथ साथ बौद्ध अनुयायाइयों को बिना नुकसान पहुंचाए सिर्फ डराने के लिए फुलझड़िया फोड़ दीं? देश … Continue reading इस्लामी आतंकवाद या फिर हिन्दू चरमपंथ? – संजय तिवारी

To the Self-Obsessed Marxists And The Pseudo Ambedkarites – Anand Teltumbde

Countercurrents.org Frankly I curse myself for having gone to Chandigarh. Not so much because I am embarrassed by the unseemly controversy created by certain pseudo Ambedkarites in Maharashtra but because I am deeply saddened to see the egotistic bunch of people with frozen mind masquerading as Marxists. I imagined there will be serious discussions on the current state of castes and the possible way out … Continue reading To the Self-Obsessed Marxists And The Pseudo Ambedkarites – Anand Teltumbde