हम छीन के लेंगे आज़ादी…मनुवाद से आज़ादी, फ़ासीवाद से आज़ादी, कारपोरेट लूट से आज़ादी..!

#‎अहमदाबाद‬ से चली ‪#‎आजादी_कूच‬ ‪#‎उना‬ में जनसभा में बदली, जहाँ साथी ‪#‎Rohith‬ की माँ और उना के पीड़ित परिवार ने मिलकर झंडा फहराया| ‪#‎Azadi‬     Continue reading हम छीन के लेंगे आज़ादी…मनुवाद से आज़ादी, फ़ासीवाद से आज़ादी, कारपोरेट लूट से आज़ादी..!

पी. साईनाथ से एक खास मुलाकात

तीस्ता सेतलवाड : नमस्कार, कम्युनॅलिज़म कॉम्बैट की एक खास मुलाकात में आज हम मुलाकात करेंगे वरिष्ठ पत्रकार पी. साईनाथ से। पी. साईनाथ जी ३१ जुलाई तक द हिन्दू न्यूजपेपर के रूल अफेयर्स एडिटर थे। उनकी किताब एवरीबॉडी लव्स अ गुड ड्राउट को एक खास काम माना जाता हैं। आज हम उनसे मुलाकात करेंगे कॉर्पोटाईजेशन ऑफ़ मीडिया के बारे में और और कई अन्य सवाल। आज … Continue reading पी. साईनाथ से एक खास मुलाकात

पैसे का लोकतंत्र और पैसे की ख़बरें: भूपेन सिंह

केंद्र की यूपीए सरकार पेड न्यूज़ छापने वाले मीडिया संस्थानों के ख़िलाफ़ कोई कदम उठाने के मामले में तो पहले ही हाथ खड़े कर चुकी है, अब वह चुनावों के दौरान पैसा देकर ख़बर छपवाने वाले नेताओं को बचाने के लिए भी खुलकर सामने आ गई है. सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पेश एक हलफनामे में कहा है कि चुनाव आयोग को किसी जन प्रतिनिधि … Continue reading पैसे का लोकतंत्र और पैसे की ख़बरें: भूपेन सिंह

यहां पत्रकार कौन है? भूपेन सिंह

प्रणय रॉय, राजदीप सरदेसाई, बरखा दत्त, अरुण पुरी, रजत शर्मा, राघव बहल, चंदन मित्रा, एमजे अकबर, अवीक सरकार, एन राम, जहांगीर पोचा और राजीव शुक्ला का परिचय क्या है? ये पत्रकार हैं या व्यवसायी? बहुत सारे लोगों को ये सवाल बेमानी लग सकता है। लेकिन भारतीय मीडिया में नैतिकता का संकट जहां पहुंचा है, उसकी पड़ताल के लिए इन सवालों का जवाब तलाशना बहुत जरूरी … Continue reading यहां पत्रकार कौन है? भूपेन सिंह