Within months of coming to power, the BJP government has started it’s attack on India’s poor: Brinda Karat

  Catch CPI-M’s only Woman Polit Bureau Member, Brinda Karat in conversation with Teesta Setalvad in this week’s Communalism Combat’s Special Interview, only on  HILLELE TV and www.sabrang.com   27.10.2014 Barely has this government caught its breath that it has started an unrelenting attack on India’s poor said Brinda Karat, CPI-M’s only woman Polit Bureau member in a special interview with Teesta Setalvad, Communalism Combat. The targeted attack on … Continue reading Within months of coming to power, the BJP government has started it’s attack on India’s poor: Brinda Karat

त्रिलोकपुरी हिंसा: दबे पांव दाख़िल हो रहा है दंगा

त्रिलोकपुरी इलाके में सांप्रदायिक तनाव के बाद बजरंग दल जैसे संगठन एक्टिव हो गए हैं। इन्होंने दिल्ली के एलजी नजीब जंग को चिट्ठी लिखकर कहा है कि जिहादी मानसिकता वाले मंदिरों पर हमला कर रहे हैं। अपराधियों की फौरन इनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए। इस चिट्ठी के ज़रिए बजरंग दल यह मैसेज देने की कोशिश कर रहा है कि वाक़ई मंदिरों पर हमले किए जा रहे हैं। लेकिन मज़े की बात है कि ये कथित हमले देश में बीजेपी की सत्ता और असर बढ़ने के बाद देखने को मिल रहा है। मौके पर कई घंटे गुज़़ारने के बाद मुझे आप एमएलए राजू धिंगान नदारद दिखे और मुझे संदेह है कि हालात का जायज़ा लेने मनीष सिसौदिया भी पहुंचे होंगे। Continue reading “त्रिलोकपुरी हिंसा: दबे पांव दाख़िल हो रहा है दंगा”

फिरकापरस्तों के हवाले वतन साथियो (कँवल भारती)

      मुरादाबाद के कांठ में जनता और पुलिस के संघर्ष से बचा जा सकता था. किन्तु, जिला प्रशासन ने मुजफ्फरनगर के दंगों से भी कोई सबक नहीं लिया और सरकार की मंशा के अनुरूप एक गुट को खुश करने के लिए दूसरे गुट के खिलाफ कार्यवाही करके पूरी फिजा बिगाड़ दी. प्रशासन को तब तो और भी सावधानी बरतनी चाहिए थी, जब उसे … Continue reading फिरकापरस्तों के हवाले वतन साथियो (कँवल भारती)

The Final Solution – A Film on Gujarat Genocide

Final Solution is a study of the politics of hate. Set in Gujarat during the period Feb/March 2002 – July 2003, the film graphically documents the changing face of right-wing politics in India through a study of the 2002 genocide of Muslims in Gujarat. It specifically examines political tendencies reminiscent of the Nazi Germany of early/mid-1930s. Final Solution is anti-hate/ violence as those who forget … Continue reading The Final Solution – A Film on Gujarat Genocide

How Secular is the Indian State ? – Teesta Setalwad

Just as the darkness, and challenges of the past ten days have set in, hasty and ill-informed pieces by “intellectuals” on “secularism” easily debunking a well-formed principle when faced with the crude onsalught of a designer jacketed Modi at Varanasi have been doing the rounds. These self styled “seculartists” have tried hastily to re-position themselves within a new reality, the Indian regime under the 16th … Continue reading How Secular is the Indian State ? – Teesta Setalwad

His name was Mohsin Sadiq Shaikh and he was not a Terrorist

Huge and significant protest organised by DYFI and other secular organisations including Communalism Combat to protest the brutal murder of young Mohsin by fascist communal forces in Pune yesterday. Dhananjay Desai one of the accused has been booked for several cases before but never prosecuted. Prompt prosecution including conviction, due and fair compensation and a close monitoring and control over religio fascist organisations were the … Continue reading His name was Mohsin Sadiq Shaikh and he was not a Terrorist

हिन्दू-मुसलमान में विभाजित राजनीति – (कॅंवल भारती)

लोकसभा के चुनावों में जिस तरह साम्प्रदायिकता की चेतना उभर कर आयी है, उससे पक्का लग रहा है कि भारतीय राजनीति में हिन्दू-मुसनमान के दो स्पष्ट ध्रुव बन चुके हैं। स्थिति यह भी लग रही है कि आगामी विधानसभा के चुनावों में भी यही साम्प्रदायिक चेतना हावी रहेगी, क्योंकि अनुच्छेद 370, कामन सिविल कोड और राम-मन्दिर के उठाये जा रहे विवाद यही माहौल बनाने जा … Continue reading हिन्दू-मुसलमान में विभाजित राजनीति – (कॅंवल भारती)

लो बन जाता हूं मैं भी एक अच्छा नागरिक – Himanshu Kumar

          लो बन जाता हूं मैं भी एक अच्छा नागरिक,तो , मोदी की जय हो ,अंकित गर्ग की जय हो ,चिदम्बरम की जय हो ,मैं कहूँगा ,मुसलमान गद्दार हैं ,आदिवासी नक्सली हैं ,दलित कामचोर और गंदे होते हैं ,अमीर अपनी मेहनत से अमीर बने हैं ,गरीब अपने आलस के कारण गरीब हैं , तो बोलो , गुजरात के विकास की जय … Continue reading लो बन जाता हूं मैं भी एक अच्छा नागरिक – Himanshu Kumar