बालश्रम उन्मूलन के लिए नया कानून: क्या यह हमारी स्थापित जाती व्यवस्था को बढाने का औजार नहीं है? –किशोर

इस सप्ताह बाल श्रम (प्रतिबंधन एवं विनियमन) अधिनियम,2012 राज्य सभा में पास हो गया. लोकसभा में पास होने के बाद इस कानून को अमली जामा पहनाने के लिए इसके नियम बनाये जायेंगे और यह एक कानून बन जाएगा. इस कानून में कुछ बदलाव सकारात्मक हैं जैसे इसके अंतर्गत बालश्रम रखने को एक संज्ञेय अपराध बनाया गया है तथा इसके लिए अधिक सजा और जुर्माने और … Continue reading बालश्रम उन्मूलन के लिए नया कानून: क्या यह हमारी स्थापित जाती व्यवस्था को बढाने का औजार नहीं है? –किशोर

CPIM opposes Child Labour in Family Enterprises

The Polit Bureau of the Communist Party of India (Marxist) strongly opposes the Union cabinet’s approval to legalise child labour in “family enterprises”. This is a retrograde measure which legalizes the exploitation of the labour of children below the age of 14. To suggest that “poverty and the social fabric of India” justify the use of child labour is to punish children for their poverty. … Continue reading CPIM opposes Child Labour in Family Enterprises

क्या कागजी ही रहेगा बालश्रम कानून – किशोर झा (Kishore Jha)

मंत्रिमंडलीय समितिद्वारा बालश्रम (प्रतिबंधन एवं विनियमन) अधिनियम, 1986 में संशोधन को मंजूरी दिए छह महीने से ज्यादा हो गए हैं, पर अभी तक यह संसद के दोनों सदनों में पास नहीं हो पाया है। इस संशोधन को राज्यसभा में पेश भी किया जा चुका है, पर मामला उससे आगे नहीं बड़ा है। इस अधिनियम में संशोधन के बाद चौदह वर्ष से कम आयु के बच्चों … Continue reading क्या कागजी ही रहेगा बालश्रम कानून – किशोर झा (Kishore Jha)