डरावने थे ये दिन, न जाने कब पुलिस उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लेती

डरावने थे ये दिन, न जाने कब पुलिस उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लेती बेगुनाहों के खिलाफ होकर अखिलेश ने फिर फंसा दिया न्यायिक प्रक्रिया में (शेख मुख्तार, अजीजुर्रहमान, मोहम्मद अली अकबर हुसैन जनवरी 2016 में आतंकवाद के आरोपों से बरी युवक) लखनऊ 10 फरवरी 2017। रिहाई मंच ने आतंकवाद के झूठे आरोप में 8 साल सात महीने बाद रिहा हुए पश्चिम बंगाल के तीन … Continue reading डरावने थे ये दिन, न जाने कब पुलिस उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लेती

Melting feminism, religion and revolution with folk music: Anusheh Anadil

Skeptic, rebel, mother, lover, dreamer, poet, designer, singer. Anusheh’s search for an understanding of the world has brought her close to the music, art, and philosophy that lie at the roots of her birthplace. Bangladesh’s powerful folks arts and spirituality have become the canvas for Anusheh’s musical and artistic journey. Vocal and guitar support: Palki Ahmad [This talk is recorded on September 21st 2013 at … Continue reading Melting feminism, religion and revolution with folk music: Anusheh Anadil