Government Can Try Very Hard but it Cannot Stifle Voices of all Journalists

In light of the recent resignation of two senior journalists from ABP News, Paranjoy Guha Thakurta and Newsclick Editor-in-Chief Prabir Purkayastha discuss the ongoing attack of press freedom in India in both direct and indirect ways. They discuss how now more than ever, it is necessary for the media to stand together in solidarity with one another to fight the constant attacks on their freedom. … Continue reading Government Can Try Very Hard but it Cannot Stifle Voices of all Journalists

#एबीपीन्यूज़ सम्पादक Milind Khandekar से इस्तीफ़ा ले लिया गया , Abhisar Sharma को छुट्टी पर भेज दिया गया, Punya Prasun Bajpai हटा दिये गये – QW Naqvi

#एबीपीन्यूज़ में पिछले 24 घंटों में जो कुछ हो गया, वह भयानक है. और उससे भी भयानक है वह चुप्पी जो फ़ेसबुक और ट्विटर पर छायी हुई है. भयानक है वह चुप्पी जो मीडिया संगठनों में छायी हुई है.   मीडिया की नाक में नकेल डाले जाने का जो सिलसिला पिछले कुछ सालों से नियोजित रूप से चलता आ रहा है, यह उसका एक मदान्ध … Continue reading #एबीपीन्यूज़ सम्पादक Milind Khandekar से इस्तीफ़ा ले लिया गया , Abhisar Sharma को छुट्टी पर भेज दिया गया, Punya Prasun Bajpai हटा दिये गये – QW Naqvi

मित्रो , मेरा “पत्रकार” बदल रहा है – Abhisar Sharma

  तो एक चैनल ने घोषित कर दिया है कि आगे से पाकिस्तन नहीं … “आतंकी देश पाकिस्तान” कहेंगे . गजब है . ये जज्बा 26-11 के वक्त नदारद था . लगता है सत्ता पर आसीन सरकार पर निर्भर करता है कि आपमे कितनी और कब देशभक्ति की भावना जागेगी . एक और दद्दा है हमारी बिरादरी के. कहते हैं कि पाकिस्तन को आतंकी देश … Continue reading मित्रो , मेरा “पत्रकार” बदल रहा है – Abhisar Sharma

हम इतने असहज क्यों है सेक्स को लेकर ? -Vishwa Deepak

संदीप के मामले में जो प्रतिक्रियाएं आई हैं, वो बताती हैं कि हमारा समाज कितना पाखंडी है. ‘नैतिकता’ का ढोल पीटने वालों का दिमाग खोलकर देखिए – वहां सेक्स का कल्पना सागर लहराता हुआ मिलेगा. न्यूज़ चैनलों की नैतिकता और इसके संपादकों का हाहाकारी विलाप इसी पाखंड का हिस्सा है. हर न्यूज चैनल में आपको कम से कम 10 लोग ऐसे मिल जाएंगे जिनके आगे … Continue reading हम इतने असहज क्यों है सेक्स को लेकर ? -Vishwa Deepak