देश भक्त रहें शव भक्त नहीं!

यह देश के लिए कठिन समय है। ऐसे में एक सुझाव है यह। कृपया ध्यान दें। देश में शव भक्त बहुत बढ़ गए हैं। ऐसे भक्तों से सावधान रहें। सजग रह कर शव भक्त और देश भक्त का अंतर बनाए रखें। घृणा की आंधी में अंधी भक्ति कभी भी शव भक्ति में बदल सकती है। सोचते रहें। शव भक्त के कुछ लक्षण यह है कि … Continue reading देश भक्त रहें शव भक्त नहीं!

कुछ भी मारो बस आँख मत मारो – बोधिसत्व

  (मर्यादावादियों के लिए एक नया राष्ट्रगान) गोरक्षक बन कर मारो गोमांस के नाम पर मारो काश्मीर में सरकार बन कर मारो बेरोजगारी से मारो बेरोजगार की मारो मंदिर के नाम पर मारो बस आँख मत मारो। नोट बंद कर मारो लाइन में लगा कर मारो कर्ज से किसान मारो बोल वचन से मारो हंस कर और हंसा कर मारो उल्टे सीधे फंसा कर मारो … Continue reading कुछ भी मारो बस आँख मत मारो – बोधिसत्व