एक लम्बी यात्रा की संक्षिप्त कथा – Shyam Anand Jha

एक लम्बी यात्रा की संक्षिप्त कथा 1989 में दरभंगा से जब दिल्ली के लिए रवाना होने की तयारी कर रहे थे, मन में तब भी यह बात थी कि लौटकर यहीं आना है। पिछले 26 सालों में जब भी रात दो रात के लिए, गांव आना हुआ, यही लगा कि अपनी खोई हुई दुनिया में फिर से लौट आया हूँ। कबीर को दरभंगा -ब्रह्मपुरा कभी … Continue reading एक लम्बी यात्रा की संक्षिप्त कथा – Shyam Anand Jha