सालगिरह मुबारक पाकिस्तान…

बचपन से 15 अगस्त को स्कूल में होता था…बड़ा हुआ तो कॉलेज में जाने लगा…या फिर आस पास के किसी स्कूल या पिता जी के दफ्तर में…नौकरी में आया तो हर बार 15 अगस्त को दफ्तर में रहा…सुबह से देशभक्ति के नाम के झूठे नारे टीवी पर चलवाता रहा…लाल किले से किसी ने किसी धोखेबाज़ की ठगी को लाइव दिखवाता रहा…भाषणों का विश्लेषण करने के … Continue reading सालगिरह मुबारक पाकिस्तान…

मैं नास्तिक क्यों हूँ? – भगत सिंह

यह लेख भगत सिंह ने जेल में रहते हुए लिखा था और यह 27 सितम्बर 1931 को लाहौर के अखबार “ द पीपल “ में प्रकाशित हुआ । इस लेख में भगतसिंह ने ईश्वर कि उपस्थिति पर अनेक तर्कपूर्ण सवाल खड़े किये हैं और इस संसार के निर्माण , मनुष्य के जन्म , मनुष्य के मन में ईश्वर की कल्पना के साथ साथ संसार में … Continue reading मैं नास्तिक क्यों हूँ? – भगत सिंह

Why I am an Atheist – Bhagat Singh

It is a matter of debate whether my lack of belief in the existence of an Omnipresent, Omniscient God is due to my arrogant pride and vanity. It never occurred to me that sometime in the future I would be involved in polemics of this kind. As a result of some discussions with my friends, (if my claim to friendship is not uncalled for) I … Continue reading Why I am an Atheist – Bhagat Singh

Raising questions about a London based company is against Indian interest- Really? – Priya Pillai

I am an Indian citizen who is not afraid to raise my voice against violations of laws that have been put in place to protect the aam aadmi’s rights. I fight to ensure that rampant coal mining in forest areas is only done in consonance with the laws and policies of the country. I believe that the interest of the forest dwellers, who often are … Continue reading Raising questions about a London based company is against Indian interest- Really? – Priya Pillai