Journalist bodies condemn moves to muzzle the media

Indian Press Club of India ,  Indian Women’s Press Corps  and Press Association have issued a strongly worded statement against central Government’s moves to muzzle the media . The statement says- ” We, the undersigned journalist organisations express deep concern at the statements made by the Hon’ble Attorney General of India insinuating that reports on the Rafale deal published in The Hindu newspaper were based … Continue reading Journalist bodies condemn moves to muzzle the media

देश भक्त रहें शव भक्त नहीं!

यह देश के लिए कठिन समय है। ऐसे में एक सुझाव है यह। कृपया ध्यान दें। देश में शव भक्त बहुत बढ़ गए हैं। ऐसे भक्तों से सावधान रहें। सजग रह कर शव भक्त और देश भक्त का अंतर बनाए रखें। घृणा की आंधी में अंधी भक्ति कभी भी शव भक्ति में बदल सकती है। सोचते रहें। शव भक्त के कुछ लक्षण यह है कि … Continue reading देश भक्त रहें शव भक्त नहीं!

Imran Khan’s conduct is predictable

Written by- Jaideep Verma Forget about the likes of Arnab Goswami who howl – “If you’re impressed by Imran Khan, get out of my country!” This is about pretty much all of the media, including, to my dismay, NDTV and particularly Mirror Now, who have been succumbing to old cliches about Imran Khan and even Pakistan without updating their perception with below-the-nose evidence. Don’t know … Continue reading Imran Khan’s conduct is predictable

नेहरू हर महीने नेताजी सुभाष की बेटी को आर्थिक मदद भेजते रहे, पर विज्ञापन नहीं किया!

प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने ‘डिस्कवरी ऑफ़ इंडिया’ जैसी किताब लिखकर इतिहास को भले ही समृद्ध किया हो, लेकिन लोगों में इतिहास के प्रति दिलचस्पी तो मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ही जगाई है। इसके लिए देश की नौजवान पीढ़ी को ख़ासतौर पर उनका आभारी होना चाहिए। वे अपने भाषणों में अगर यक़ीन से परे दावों की मुसलसल धार न छोड़ते तो लोग इतिहास के … Continue reading नेहरू हर महीने नेताजी सुभाष की बेटी को आर्थिक मदद भेजते रहे, पर विज्ञापन नहीं किया!

Inside the #MeToo revolt at Google

Kristen Sheets reports on the walkout at Google — why it happened, how it was organized, what it achieved and what it tells us about organizing the tech sector. THE NOVEMBER 1 walkout by 20,000 Google employees at some 50 offices around the world may be the largest international action of its kind in modern labor history — and it shined a spotlight on the … Continue reading Inside the #MeToo revolt at Google