छत्तीसगढ़ का दंतेवाड़ा जिला

छत्तीसगढ़ का दंतेवाड़ा जिला सरकार आदिवासियों को मार कर आदिवासियों की ज़मीनें बड़े उद्योगपतियों के लिए का काम कर रही है आदिवासियों की हत्याओं और बलात्कारों का काम करने के लिए इस काम में बदमाश पुलिस अधिकारियों को लगाया गया है . ज़मीनें छीनने के लिए छत्तीसगढ़ का मुख्यमंत्री रमन सिंह और प्रधान मंत्री मोदी दोनों मिलकर आदिवासियों की हत्याओं , आदिवासी औरतों के बलात्कार … Continue reading छत्तीसगढ़ का दंतेवाड़ा जिला

अंधायुग

गरीब – नेता जी…हम ने आपको वोट दिया था… पीएम – मितरों, ये देश आपका आभारी है…इस देश की गौरवशाली संस्कृति का नाम हिमालय से लेकर… गरीब – लेकिन पीएम जी, हम भूखे हैं…. पीएम – हम ने गोवध को रोका…इस देश में गाय को मां का दर्जा…. गरीब – नेता जी, हमारे बच्चों के लिए स्कूल नहीं है… पीएम – और राम-कृष्ण की कहानियां…गुरुकुल … Continue reading अंधायुग

The History of May Day – Alexander Trachtenberg

The Fight for the Shorter Workday The origin of May Day is indissolubly bound up with the struggle for the shorter workday – a demand of major political significance for the working class. This struggle is manifest almost from the beginning of the factory system in the United States. Although the demand for higher wages appears to be the most prevalent cause for the early … Continue reading The History of May Day – Alexander Trachtenberg

PUDR Condemns Police Lathicharge on Contract Workers’ Demonstration outside Delhi Secretariat

In a statement issued by PUDR the members of the group have strongly condemned the brutal lathicharge by Police in Delhi on a workers’ demonstration on 25 March 2015 when nearly 1000 workers and activists belonging to different unions (Wazirpur hot rolling steel industry, Delhi Metro Railways Corporation, Karawal Nagar almond workers, safai karamcharis of Dr. Hedgevar and Babu Jagjivan Ram Hospitals and several unorganized … Continue reading PUDR Condemns Police Lathicharge on Contract Workers’ Demonstration outside Delhi Secretariat

मैं नास्तिक क्यों हूँ? – भगत सिंह

यह लेख भगत सिंह ने जेल में रहते हुए लिखा था और यह 27 सितम्बर 1931 को लाहौर के अखबार “ द पीपल “ में प्रकाशित हुआ । इस लेख में भगतसिंह ने ईश्वर कि उपस्थिति पर अनेक तर्कपूर्ण सवाल खड़े किये हैं और इस संसार के निर्माण , मनुष्य के जन्म , मनुष्य के मन में ईश्वर की कल्पना के साथ साथ संसार में … Continue reading मैं नास्तिक क्यों हूँ? – भगत सिंह

Why I am an Atheist – Bhagat Singh

It is a matter of debate whether my lack of belief in the existence of an Omnipresent, Omniscient God is due to my arrogant pride and vanity. It never occurred to me that sometime in the future I would be involved in polemics of this kind. As a result of some discussions with my friends, (if my claim to friendship is not uncalled for) I … Continue reading Why I am an Atheist – Bhagat Singh

Mahatma Gandhi and Bhagat Singh : A Clash of Ideology – Jai Narayan Sharma

Abstract Great men of all generations have been anxious about improvement of the lot of human beings. But how to realize it remains a formidable task for e very age. Even though the goal is similar, the means to achieve the goal can differ. And this difference in approach can generate a lot of controversy. This is precisely what happened between Mahatma Gandhi and Sardar … Continue reading Mahatma Gandhi and Bhagat Singh : A Clash of Ideology – Jai Narayan Sharma

पी. साईनाथ से एक खास मुलाकात

तीस्ता सेतलवाड : नमस्कार, कम्युनॅलिज़म कॉम्बैट की एक खास मुलाकात में आज हम मुलाकात करेंगे वरिष्ठ पत्रकार पी. साईनाथ से। पी. साईनाथ जी ३१ जुलाई तक द हिन्दू न्यूजपेपर के रूल अफेयर्स एडिटर थे। उनकी किताब एवरीबॉडी लव्स अ गुड ड्राउट को एक खास काम माना जाता हैं। आज हम उनसे मुलाकात करेंगे कॉर्पोटाईजेशन ऑफ़ मीडिया के बारे में और और कई अन्य सवाल। आज … Continue reading पी. साईनाथ से एक खास मुलाकात