Sticky post

आंबेडकर के लोकतांत्रिक समाजवाद से क्यों असहमत थी संविधान सभा?

डॉ. आंबेडकर ने 15 मार्च 1947 को संविधान में कानून के द्वारा ‘राज्य समाजवाद’ को लागू करने के लिए संविधान सभा को ज्ञापन दिया। उन्होंने मांग की थी कि भारत के संविधान में यह घोषित किया जाए कि उद्योग, कृषि, भूमि और बीमा का राष्ट्रीयकरण होगा तथा खेती का सामूहिकीकरण। लेकिन संविधान सभा ने ऐसा होने नहीं दिया। बता रहे हैं कंवल भारती संविधान दिवस (26 नवंबर 1949) पर विशेष डॉ. … Continue reading आंबेडकर के लोकतांत्रिक समाजवाद से क्यों असहमत थी संविधान सभा?

Sticky post

Why the Constituent Assembly disagreed with Ambedkar’s democratic socialism

On 15 March 1947, Dr Ambedkar gave a memorandum to the Constituent Assembly for implementing “state socialism” through the Constitution. He wanted the Indian Constitution to mandate the nationalization of industry, agriculture, land and insurance, and collectivization of farming. But the Constituent Assembly did not let this happen, writes Kanwal Bharti Dr B.R. Ambedkar was knowledgeable about Constitutions adopted around the world and believed that the … Continue reading Why the Constituent Assembly disagreed with Ambedkar’s democratic socialism

‘They beat Chandrashekhar with lathis all night long’ – Bhim Army

Following the massive protests against the demolition of the Ravidas temple in Tughlaqabad, dalit leader Chandrashekhar Azad was picked up by the police and beaten up inside the Kalkaji police station, the Bhim Army has alleged. In an interview with Sabrangindia, Vipin Gouraiya of the Bhim Army Student Federation said, ‘near the Okhla metro station a senior police officer told us everything is alright and … Continue reading ‘They beat Chandrashekhar with lathis all night long’ – Bhim Army

भारत की वंचित जातिः बेतिया के डोम-मेहतर ज़िंदगी गुज़ारने के लिए बांस की बिनाई और मानव मल की सफ़ाई करते हैं

बिहार के बेतिया में दलितों का जीवन जातिवादी नीच काम और भेदभाव के बीच फँसा हुआ है जो सरकार द्वारा उनपर थोपा गया है। डब्लू मलिक पैसा कमाने के लिए शहर जाते हैं और वहाँ सफ़ाई कर्मचारी के रूप में काम करते हैं। बांस से बनी अपनी झोपड़ी के अंदरूनी हिस्से को दिखाते हुए डब्लू मलिक कहते हैं, “हमारे दादा 50 साल पहले परसौना गांव … Continue reading भारत की वंचित जातिः बेतिया के डोम-मेहतर ज़िंदगी गुज़ारने के लिए बांस की बिनाई और मानव मल की सफ़ाई करते हैं

दलितों के ऊपर हमले, महिला हिंसा, शैक्षिक संस्थानों में भेदभाव, लोकतंत्र पर बढ़ते हमले के खिलाफ 20 मई को गोरखपुर में अम्बेडकरवादी छात्र सभा

लखनऊ 17 मई 2018. गोरखपुर में 20 मई को तारामंडल रोड सत्यम लान में दलितों के ऊपर बढ़ते हमले, महिला हिंसा, शैक्षिक संस्थानों में हो रहे भेदभाव, लोकतंत्र पर बढ़ते हमले के खिलाफ अम्बेडकरवादी छात्र सभा, वीरांगना उदादेवी समिति और रिहाई मंच ‘आवाज़ सुनो, अधिकार चुनो’ सम्मलेन करेगा. वीरांगना उदादेवी समिति के अध्यक्ष अमर सिंह पासवान और रिहाई मंच प्रवक्ता अनिल यादव ने बताया कि … Continue reading दलितों के ऊपर हमले, महिला हिंसा, शैक्षिक संस्थानों में भेदभाव, लोकतंत्र पर बढ़ते हमले के खिलाफ 20 मई को गोरखपुर में अम्बेडकरवादी छात्र सभा

गौकशी के नाम पर बच्चे और नाबालिगों को जेल भेजने वाले पुलिसकर्मियों पर हो कार्यवाही

मुज़फ्फरनगर/लखनऊ 18 मई 2018. खतौली मुज़फ्फरनगर के बुढाना रोड पर रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने लोकदल के जिला मुजफ्फरनगर महाससिव इंजी. उस्मान अहमद के साथ गौकशी के आरोप में जेल गए नाबालिग बच्चों और महिलाओं से बातचीत की व सच्चाई को जाना। प्रथम दृष्टिया रिहाई मंच ने माना कि गौकशी के आरोप मे जेल भेजी गई दो बच्चियां लाईबा, शीबा और लड़का अजीम नाबालिग … Continue reading गौकशी के नाम पर बच्चे और नाबालिगों को जेल भेजने वाले पुलिसकर्मियों पर हो कार्यवाही