We must replace the constitution with his suicide note – Akhu Chingangbam

  A fascist university, A body hanged in the dormitory A saffronised country Writing the same old history In favour of casteism Killing Muslims, Dalits Yesterday they killed a Dalit His name was Rohith We must replace the constitution With his suicide note.   Continue reading We must replace the constitution with his suicide note – Akhu Chingangbam

मेरी माँ का इतिहास

1. मेरी माँ बताती है मेरे पूर्वज डांगर खाते थे. और बड़ी जातियों के विवाह में बचा बासी भोजन माँ ने बताया हमारे रिश्तेदारों के घर या तो दक्षिण में थे या उत्तर में आज भी उनके घर कमोबेश उसी दिशा में होते हैं मेरा भी घर गावं के दक्खिन ही है. 2. पता पूछने पर न चाहते हुए भी लोग जान जाते हैं हमारी … Continue reading मेरी माँ का इतिहास

सब गाइए…कौन गाएगा? – Mayank Saxena

पंच हुए बेईमान, दिया वरदान बने हैं ठग देखो परधान राजा है अनजान प्रजा परेशान शरम से झुक्का हिंदुस्तान तर्क की होती हार है बंटाधार हुआ अंधों का बेड़ापार रात हुई घनघोर मचा है शोर करे है मन की बात से बोर भक्तों की पहचान है गालीदान बड़े जन करते चारणगान जंगल में है सोग है फैला रोग करे है डाकू संत को ढोंग पढ़ी … Continue reading सब गाइए…कौन गाएगा? – Mayank Saxena