सार्वजनिक संस्थाओं को बेचने पर आमादा सरकारों से पूछा जाना चाहिए कि वो हैं किस लिए ? सिर्फ दलाली खाने के लिए? – Rakesh Kayasth

सरकारी तंत्र यानी नकारापन। प्राइवेट सेक्टर यानी अच्छी सर्विस और एकांउटिबिलिटी। यह एक आम धारणा है, जो लगभग हर भारतीय के मन में बैठी हुई है या यूं कहे बैठा दी गई है। लेकिन यह धारणा हर दिन खंडित होती है। किस तरह उसकी एक छोटी केस स्टडी आपके सामने रख रहा हूं। मेरे पड़ोसी…

No cap on corporate funds to parties, suggest a way out, Govt tells Opposition

Parliament Thursday approved the Finance Bill, rejecting five amendments proposed a day earlier by Rajya Sabha on curtailing more powers to taxmen and capping corporate donations to political parties. The amendments, forced by the Opposition in Rajya Sabha where the government lacked majority, were negated by Lok Sabha and the Bill passed, completing the budgetary…

अवैध स्लाटर हाउस बंद कराने के नाम पर साम्प्रदायिक जेहनियत के तहत छोटे- छोटे दुकानदारों की रोजी- रोटी छिनने रही है सरकार.

एंटी रोमियो स्क्वाड के नाम पर मोरल पुलिसिंग करके सामंतवाद और जातिवाद को बढावा दे रही है सरकार – रिहाई मंच मनुवादी नही चाहते हैं की समाज से जातिवाद ख़त्म हो- मंच अवैध स्लाटर हाउस बंद कराने के नाम पर साम्प्रदायिक जेहनियत के तहत छोटे- छोटे दुकानदारों की रोजी- रोटी छिनने रही है सरकार.  …