Sticky post

Inviting New Anarchies? – A Word of Caution against Dismantling of Labour Laws in Uttar Pradesh

By Saurabh Bhattacharjee The outbreak of COVID-19 has not just created a public health crisis but also unleashed an unprecedented humanitarian tragedy as a result of the nation-wide lockdown. With more than 90% of Indian workers engaged in precarious work, millions of workers have been left without work, food or shelter as shown in the surveys of the Stranded Workers Action Network (SWAN). The mass … Continue reading Inviting New Anarchies? – A Word of Caution against Dismantling of Labour Laws in Uttar Pradesh

Sticky post

Demystifying the Changes to Labour Laws in States: Madhya Pradesh

By Saurabh Bhattacharjee Even as the COVID-19 pandemic and the resultant lockdown has sparked an unprecedented livelihood crisis, the governments of many states in this country have unveiled a series of measures for relaxation of labour laws for industries in the states. Several states including Madhya Pradesh, Orissa, Gujarat, Rajasthan, Punjab, Assam, Himachal Pradesh have either announced or have proposed suspension of various labour laws … Continue reading Demystifying the Changes to Labour Laws in States: Madhya Pradesh

Sticky post

Viral: Dr Raghu Ram Rajan answers Rahul Gandhi’s queries

बेहतर होता कि कोरोना महामारी और लॉकडाउन के दौरान आरबीआई के पूर्व गवर्नर और आर्थिक मामलों के विशेषज्ञ रघुराम राजन जैसी हस्तियों से बातचीत मीडिया के बुनियादी कर्तव्यों में शामिल होता। प्रधानमंत्री समेत केंद्रीय कैबिनेट उनके तमाम सुझावों पर कान देती, रास्ता खोजती। लेकिन अफ़सोस इस महासंकट के समय उनकी दिलचस्पियों के दीगर विषय हैं। मीडिया के सहयोग से देश के मानस को सांप्रदायिक रूप … Continue reading Viral: Dr Raghu Ram Rajan answers Rahul Gandhi’s queries

भंगी का उद्भव : कब और कैसे? -कँवल भारती

प्रोफेसर श्यामलाल की पुस्तक ‘Ambedkar and The Bhangis’ से भंगी का उद्भव : कब और कैसे? ‘The Bhangi : The Lowest of the Low Untouchable Castes’ शीर्षक पहले अध्याय में प्रोफेसर श्याम लाल ने भारत के अलग-अलग प्रान्तों में मैला उठाने वाले लोगों को किन-किन नामों से जाना जाता है, इसका वर्णन करते हुए यह पता लगाने की कोशिश की है कि वे भंगी कैसे … Continue reading भंगी का उद्भव : कब और कैसे? -कँवल भारती

सार्वजनिक संस्थाओं को बेचने पर आमादा सरकारों से पूछा जाना चाहिए कि वो हैं किस लिए ? सिर्फ दलाली खाने के लिए? – Rakesh Kayasth

सरकारी तंत्र यानी नकारापन। प्राइवेट सेक्टर यानी अच्छी सर्विस और एकांउटिबिलिटी। यह एक आम धारणा है, जो लगभग हर भारतीय के मन में बैठी हुई है या यूं कहे बैठा दी गई है। लेकिन यह धारणा हर दिन खंडित होती है। किस तरह उसकी एक छोटी केस स्टडी आपके सामने रख रहा हूं। मेरे पड़ोसी ने एक ऐसे प्राइवेट बैंक से होम लोन लिया था, … Continue reading सार्वजनिक संस्थाओं को बेचने पर आमादा सरकारों से पूछा जाना चाहिए कि वो हैं किस लिए ? सिर्फ दलाली खाने के लिए? – Rakesh Kayasth

No cap on corporate funds to parties, suggest a way out, Govt tells Opposition

Parliament Thursday approved the Finance Bill, rejecting five amendments proposed a day earlier by Rajya Sabha on curtailing more powers to taxmen and capping corporate donations to political parties. The amendments, forced by the Opposition in Rajya Sabha where the government lacked majority, were negated by Lok Sabha and the Bill passed, completing the budgetary exercise for 2017-18. Defending the government’s stand to reject the … Continue reading No cap on corporate funds to parties, suggest a way out, Govt tells Opposition