महान भारत का एक साधन संपन्न नागरिक होने पर मुझे गर्व है – Rakesh Kayasth

आज सुबह मेरी पत्नी ने मुझे विजयी भव: वाले उसी अंदाज़ में घर से भेजा जैसै पुराने जमाने में रणभूमि पर जा रहे योद्धाओं को भेजा जाता था। सिर्फ रक्त तिलक नहीं हुआ, बाकी तैयारी पूरी थी। लड़ाई के साजो-समान में तीन चेक बुक दो एटीएम कार्ड, चार हज़ार की पुरानी करेंसी। भरे हुए फॉर्म, पैन कार्ड की फोटो कॉपी और ऑरिजनल दोनो। क्या पता … Continue reading महान भारत का एक साधन संपन्न नागरिक होने पर मुझे गर्व है – Rakesh Kayasth

मित्र ट्रंप, यूपी चुनाव से पहले जनता को एकाध बार और धप्पा करना है

मित्र ट्रंप, चुनाव जीतने पर लख लख बधाइयां। मैं तो अमेरिका आकर ही बधाई देना चाहता था लेकिन इधर ज़रा सा फंसा हूं। बहुत सारे नए नोट छापने पड़ रहे हैं। अपने इधर ब्लैक मनी को खत्म करना चाह रहा हूं। तुम तो ब्लैक मनी के बारे में जानते ही होंगे, पुराने बिल्डर जो ठहरे। 😉 मित्र, हमारे यहां तुम्हारे बहुत फैन हैं। कई मेरे … Continue reading मित्र ट्रंप, यूपी चुनाव से पहले जनता को एकाध बार और धप्पा करना है

जन-गण-मन… दे दनादन – Rakesh Kayasth

सिनेमा हॉल में राष्ट्रगान बजाने के परंपरा के विरोध में मैने कई बार लिखा है। राष्ट्रीय प्रतीकों के ज़रूरत से ज्यादा इस्तेमाल से उनकी गरिमा धूमिल होती है। साथ ही तथाकथित राष्ट्रवाद के नाम पर गुंडागर्दी करने वालों को इसका लाइसेंस भी मिल जाता है। ताजा शिकार हमेशा व्हील चेयर पर रहने वाले लेखक सलिल चतुर्वेदी हैं, जिन्हे गोवा के सिनेमा हॉल में जन-गण-मन के … Continue reading जन-गण-मन… दे दनादन – Rakesh Kayasth

‘My final offer is 20 billion dollars. Is that fine?’

This is an alleged transcript of the PM’s meeting with Mark Zuckerberg in California, from a completely unreliable source: Modi: GM Mark. Mark Zuckerberg: Mr Modi, sir, GM, GM. It’s an honour having you here. I am a great admirer, in awe of the things you have achieved. Modi: I do all this for the glory of India. Mark: I was actually talking about your … Continue reading ‘My final offer is 20 billion dollars. Is that fine?’