डेरा सच्चा सौदा सिरसा में साधु लड़की की गुमनाम चिट्ठी

उस गुमनाम चिट्ठी को हमें ज़रूर पढ़ना चाहिए जिसे एक पीड़ित ने लिखा और जो गुरमीत के डेरे पर बार-बार रेप का शिकार हुई. पीड़ित की यह चिट्ठी राम रहीम के फलते-फूलते साम्राज्य में ताबूत की कील साबित हुई. चिट्ठी से पता चलता है कि बाबा अपनी अय्याशी के लिए धर्म का इस्तेमाल करता था और जिसे रसूखदार नेताओं का संरक्षण हासिल था. उस चिट्ठी का कुछ महत्वपूर्ण अंश….

मैं पंजाब की रहने वाली हूं और अब पांच साल से डेरा सच्चा सौदा सिरसा में साधु लड़की के रूप में कार्य कर रही हूं. सैकड़ों लड़कियां भी डेरे में 16 से 18 घंटे सेवा करती हैं. हमारा यहां शारीरिक शोषण किया जा रहा है. मेरे परिवार के सदस्य महाराज के अंध श्रद्धालु हैं, जिनकी प्रेरणा से मैं डेरे में साधु बनी थी.

साधु बनने के दो साल बाद एक रात 10 बजे मुझे महाराज की गुफा (महाराज के रहने के स्थान) में भेजा गया. वहां मैंने देखा महाराज बेड पर बैठे हैं. हाथ में रिमोट है, सामने टीवी पर ब्लू फिल्म चल रही है. बेड पर सिरहाने की ओर रिवॉल्वर रखा हुआ है.

महाराज ने टीवी बंद किया, मुझे साथ बिठाकर पानी पिलाया और कहा कि मैंने तुम्हें अपनी खास प्यारी समझकर बुलाया है. महाराज ने मेरे को बांहों में लेते हुए कहा कि तुमने साधु बनते वक्त तन मन धन सतगुरु को अर्पण करने को कहा था. सो अब ये तन मन हमारा है.

मेरे विरोध करने पर उन्होंने कहा कि कोई शक नहीं, हम ही खुदा हैं. जब मैंने पूछा कि क्या यह खुदा का काम है, तो उन्होंने कहाः श्री कृष्ण भगवान थे, उनके यहां 360 गोपियां थीं. जिनसे वह हर रोज़ प्रेम लीला करते थे. फिर भी लोग उन्हें परमात्मा मानते हैं.

बाबा ने साध्वी से कहा कि तु्म्हारे घर वाले हर प्रकार से हमारे पर विश्वास करते हैं व हमारे गुलाम हैं. वह हमारे से बाहर जा नहीं सकते.

हमारी सरकार में बहुत चलती है. हरियाणा व पंजाब के मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री हमारे चरण छूते हैं. नेता हमसे समर्थन लेते हैं, पैसा लेते हैं और हमारे खिलाफ कभी नहीं जाएंगे.

हम तुम्हारे परिवार से नौकरी लगे सदस्यों को बर्खास्त करवा देंगे. सभी सदस्यों को मरवा देंगे और सबूत भी नहीं छोड़ेंगे. पैसे के बल पर हम राजनीतिक व पुलिस और न्याय को खरीद लेंगे.

इस तरह मेरे साथ मुंह काला किया गया और पिछले तीन माह में 2-3 बार किया जा रहा है. हम दिखाने में देवी हैं, मगर हमारी हालत वेश्या जैसी है.

मैंने एक बार अपने परिवार वालों को बताया कि यहां डेरे में सब कुछ ठीक नहीं है तो मेरे घर वाले गुस्से में कहने लगे कि अगर भगवान के पास रहते हुए ठीक नहीं है, तो ठीक कहां है.

एक कुरुक्षेत्र जिले की एक साधु लड़की जो घर आ गई है, उसने घर वालों को सब कुछ सच बता दिया है. उसका भाई बड़ा सेवादार था.

संगरूर जिले की एक लड़की जिसने घर आ कर पड़ोसियों को डेरे की काली करतूतों के बारे में बताया तो डेरे के सेवादार गुंडे बंदूकों से लैस लड़की के घर आ गए. घर के अंदर कुण्डी लगाकर धमकी दी.

इन सब लड़कियों के साथ-साथ मुझे भी मेरे परिवार के साथ मार दिया जाएगा, अगर मैं इसमें अपना नाम लिखूंगी….हमारा डॉक्टरी मुआयना किया जाए ताकि हमारे अभिभावकों को व आपको पता चल जाएगा कि हम कुमारी देवी साधू हैं या नहीं. अगर नहीं तो किसके द्वारा बर्बाद हुई हैं.

Advertisements

One thought on “डेरा सच्चा सौदा सिरसा में साधु लड़की की गुमनाम चिट्ठी

  1. aaj dharm duniya ka behtarin dhanda ban gaya hai jidhar dekho dharm ke naam par lut khasot shoshan maar kaat sab kuch jayaj sa ho gaya hai lekin yah sab ho kyo raha hai wah isliye kyoki ham sab pehle andhe hokar vishwash karte hai Quraan me likha hai agar guru ya sant koi bhi ho agar uski baate Quraan me kahe anusaar sirf dohrati hai lekin uski sirat or karni me wah nahi hai to wah dhongi hai or papi aise logo se bacho tumhe rasta chahiye to mere ilm ki roshni ka daaman tham lo main tumhe sahi raah dikhaungi

    iske bawajud log bhatakte hai wah is liye ki wah padhte hai magar use samajhte nahi or jo samjhte bhi hai wo amal karte nahi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s