मैं इस गणतंत्र दिवस पर संविधान के पक्ष में खड़े होने का फैसला करता हूँ – Himanshu Kumar

आज गणतंत्र दिवस है

सुबह से देशभक्ति का माहौल गरम है

रेडियो पर सैनिकों की वीरता के गाने बज रहे हैं

क्या आज के दिवस का ताल्लुक सिपाहियों से है ?

क्या आज के दिवस का सम्बन्ध दुश्मन देश और हमारी वीरता से है

नहीं आज के दिवस का ताल्लुक तो संविधान के लागू होने से है

और संविधान क्या है ?

Ambedkar

संविधान भारत के सभी नागरिकों की बराबरी और न्याय का दस्तावेज़ है

भारत का संविधान सभी नागरिकों को बराबरी और सभी को न्याय का वादा करता है

यानि भारत का संविधान कह रहा है कि अदाणी और बस्तर की आदिवासी महिला बराबर हैं

लेकिन अम्बानी अदाणी टाटा और दूसरे अमीरों की कंपनियों के लिए ज़मीनें छीनने के लिए हमारे सैनिक आदिवासी इलाकों में भेज दिए गए हैं

हमारे सैनिक आदिवासी इलाकों में आदिवासी महिलाओं से बलात्कार कर रहे हैं

हमारे सैनिक संविधान को पैरों तले कुचल रहे हैं

लेकिन प्रधान मंत्री के भाषण से संविधान के इस तरह कुचले जाने की यह चिंता गायब है

राष्ट्रपति के भाषण में भारत की आदिवासी महिलाओं के साथ भारत के ही सैनिकों के बलात्कार का ज़िक्र क्यों नहीं है ?

भारत के रेडियो में सैनिकों की वीरता का ही ज़िक्र क्यों है

भारत के राष्ट्रपति, भारत के प्रधानमंत्री के भाषण और भारत के रेडियो में आदिवासी महिलाओं के बराबरी के अधिकार को कुचले जाने का ज़िक्र क्यों नहीं है ?

क्या भारत का राष्ट्रपति , भारत का प्रधान मंत्री और भारत का रेडियो बस्तर की आदिवासी महिला के दर्द के साथ नहीं है ?

क्या हमारा राष्ट्रपति हमारा प्रधान मंत्री और हमारा रेडियो बलात्कार करने वाले सिपाही के साथ हैं ?

क्या हमारा राष्ट्रपति, हमारा प्रधान मंत्री और हमारा रेडियो भारत के संविधान को रौंदने वाले सिपाही के साथ हैं ?

अगर हम सब संविधान को रौंदने वाले के साथ हैं ?

तो फिर यह एक खतरनाक हालत है

फिर आपके लिए यह सावधान हो जाने का समय है

क्योंकि भगत सिंह अम्बेडकर गांधी नें इस गणतंत्र का सपना तो नहीं देखा होगा

जिसमें एक दिन भारत की महिलाओं की अस्मत भारत के सैनिक लूटेंगे और
पूरा देश उस पर कोई ध्यान नहीं देगा

बल्कि देश विकास के नाम पर गरीब लोगों पर हमले करने को सहमति देगा

लेकिन आपको शायद खतरे का अन्दाज़ा नहीं है

अगर आज आपने गणतंत्र को बचाने के लिए संविधान पर होने वाले हमले के विरुद्ध आवाज़ नहीं उठाई

तो आप एक लूट तन्त्र में प्रवेश कर जायेंगे

और उसके लिए आप खुद ही ज़िम्मेदार होंगे

इस बीच छत्तीसगढ़ के बीजापुर ज़िले के वेल्लम नेंड्रआ और पेद्दा गेलूर की 49 बलात्कार पीड़ित आदिवासी महिलायें तीस जनवरी को अपने साथ सैनिकों द्वारा किये गए बलात्कारों के खिलाफ़ रैली करेंगी

yourstory-Bhimrao-Ramji-Ambedkar

मैं इस गणतंत्र दिवस पर उन् बलात्कार पीड़ित महिलाओं की तरफ खड़े होने का संकल्प लेता हूँ

मैं इस गणतंत्र दिवस पर संविधान के पक्ष में खड़े होने का फैसला करता हूँ

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s