जब सरकार में नहीं रहते तब माया-मुलायम को याद आते हैं जेलों में बंद बेगुनाह मुस्लिम

जब सरकार में नहीं रहते तब माया-मुलायम को याद आते हैं जेलों में बंद बेगुनाह मुस्लिम- राजीव यादव
आतंकवाद के नाम पर बेगुनाहों की गिरफ्तारी में रिकाॅर्ड बनाने की होड़ रही है सपा और बसपा में- रिहाई मंच
लखनऊ 31 अगस्त 2016। रिहाई मंच ने आजमगढ़ में बसपा प्रमुख मायावती द्वारा आतंकवाद के नाम पर बेगुनाह मुस्लिमों की गिरफ्तारी पर दिए बयान पर तीखी टिप्पड़ी करते हुए कहा कि मायावती के मुख्यमंत्री काल में जब तत्कालीन डीजीपी विक्रम सिंह, एडीजी कानून व्यवस्था बृजलाल आजमगढ़, प्रतापगढ़, बिजनौर, मुरादाबाद, बरेली से बेगुनाहों को उठाने का अभियान चला रहे थे, मायावती की एसपीजी सुरक्षा के लिए माहौल बनाने के लिए शाल बेचने वाले कश्मीरी युवकों को राजधानी लखनऊ में फर्जी मुठभेड़ों में गोलियों से भूना जा रहा था तब मायावती को ये बात क्यों नहीं समझ आई थी। मायावती को यह भी बताना चाहिए कि कानपुर में बम बनाते हुए मारे गए संघी आतंकवादियों के मामले में उनकी सरकार ने क्यों जांच आगे नहीं बढ़ाई। रिहाई मंच ने कहा है कि जब मायावती अपनी किताब ‘मेरे बहुजन संघर्ष का सफरनामा’ में लिखती हैं कि योगी आदित्यनाथ की गतिविधियां देश विरोधी हैं, तब उनके देश विरोधी गतिविधियों के खिलाफ उन्होंने कोई कार्रवाई क्यों नहीं की? या अजय मोहन सिंह बिष्ट उर्फ योगी आदित्यनाथ के खिलाफ जब कोर्ट के आदेश पर प्राथमिकी दर्ज हुई तो उनकी सरकार ने क्यों विरोध किया या फिर सुप्रीम कोर्ट में उनकी सरकार आदित्यनाथ के पक्ष में क्यों खड़ी हुई?
रिहाई मंच अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने कहा कि मायावती जी को कब इस ज्ञान की प्राप्ति हुई कि आतंकवाद के नाम पर मुसलमानों को पुलिस फंसाती हैं उन्हें बताना चाहिए। क्या उन्हें इसका ज्ञान चुनाव के कारण हुआ है। 2002 गुजरात के मुस्लिम जनसंहार के बाद मोदी के प्रचार में जा चुकी मायावती से उन्होंने पूछा कि बाटला हाउस 2008 को वह क्या मानती हैं? उन्होंने कहा कि आतंकवाद के नाम पर बेगुनाहों की गिरफ्तारियों के खिलाफ खड़े हुए आंदोलनों के दबाव में पक्ष-विपक्ष की सत्ताधारी पार्टियां वोटों के खातिर इस सवाल को उठाती हैं पर जब वे सत्ता में रहती हैं तो वह न खुद संघ द्वारा पोषित सुरक्षा-खुफिया एजेंसियों के साथ मिलकर बेगुनाहों को जेलों में ठूंसने का काम करती हैं बल्कि उनकों सालों साल कैस जेल में सड़ा कर पूरे मुस्लिम समुदाय को बदनाम किया जाए इसके लिए निचली अदालतों से बरी युवकों के खिलाफ ऊपरी अदालतों में अपील भी करती हैं। कानपुर के बरी युवकों के खिलाफ जहां मायावती सरकार ऊपरी अदालत में गई तो वहीं बिजनौर, पंश्चिम बंगाल के युवकों के खिलाफ अखिलेश सरकार गई है।
रिहाई मंच आजमगढ़ प्रभारी मसीहुद्दीन संजरी ने कहा कि 2007 में आतंकवाद के नाम पर बेगुनाहों की गिरफ्तारियों के खिलाफ मायावती सरकार में ही आंदोलन की शुरुआत की गई थी। जब रिहाई मंच के अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने आतंकवाद के नाम पर कैद बेगुनाहों की लड़ाई लड़ने का फैसला किया तो इन्हीं मायावती जी की सरकार में लखनऊ, फैजाबाद, बराबंकी की अदालतों में उन्हें और उनके सहयोगी वकीलों व मुअक्लिों को बेरहमी से पीटा गया और राज्यद्रोह तक के मुकदमें दर्ज किए गए। जिसके प्रमुख मुद्दे आतंकवाद के नाम पर पकड़े गए युवकों की गिरफ्तारियों पर जांच आयोग का गठन करना, बेगुनाहों की रिहाई के लिए चुनावी घोषणापत्रों में वादा करना  और आईबी को संसद के प्रति जवाबदेह बनाने के लिए संसद में सवाल उठाना था। आंदोलनों के दबाव में मायावती ने 2008 में तारिक-खालिद की गिरफ्तारी पर आरडी निमेष कमीशन का गठन तो कर दिया जिसकी रिपोर्ट 6 महीने में आनी थी पर 6 महीने तक उस आयोग को बैठने तक के लिए स्थान नहीं दिया। बहुत दबाव में जब आयोग को स्थान मिला भी तो कमीशन द्वारा रिपोर्ट तैयार किए जाने की प्रक्रिया को जानबूझ कर फंड और स्टाफ जैसे तकनीकी कारणों से टाला गया क्योंकि मायावती उसे अपने कार्यकाल में लेना ही नहीं चाहती थीं। ताकि उन्हें अपने ही दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई न करना पड़े। प्रेस विज्ञप्ति में मसीहुद्दीन संजरी ने आरोप लगाया है कि अखिलेश सरकार ने भी यही रवैया रखा लेकिन जनदबाव में जब अखिलेश सरकार को अगस्त 2013 में कमीशन की रिपोर्ट लेनी पड़ी तब उन्होंने ने भी इसे हाशिमपुरा, मुरादाबाद और कानपुर के मुस्लिम विरीधी हिंसा पर आई जंाच कमीशन की रिपोर्टाे की तरह ठंडे बस्ते में डालने की कोशिश ही नहीं की बल्कि रिपोर्ट में बेगुनाह बताए गए खालिद मुजाहिद की हिरासत में हत्या भी करवा दी। लेकिन रिहाई मंच के 121 दिन लम्बे धरने के दबाव में मुख्यमंत्री को रिपोर्ट सदन के पटल पर रखना पड़ा। लेकिन बावजूद इसके कि खालिद मुजाहिद की हत्या में तत्कालीन डीजीपी विक्रम सिंह और एडीजी बृजलाल हत्यारोपी हैं अखिलेश सरकार ने उनको गिरफ्तार करके पूछताछ करना तो दूर उन्हें सम्मन तक जारी नहीं किया। जो यह साबित करता है कि आतंकवाद के नाम पर बेगुनाहों को फंसाने के मामले में सपा और बसपा दोनों ने ही मुसलमानों को धोका ही नहीं दिया है, दोषी पुसिल और खुफिया एजेंसियों के लोगों को पूरा संरक्षण दिया है।
रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने कहा कि मुलायम सिंह ने अपने मुख्यमंत्री काल में इलाहाबाद से मौलाना वली उल्लाह लखनऊ से फरहान, शुएब, अमरोहा से रिजवान, शाद बंगाल से महबूब मंडल की गिरफ्तारियों का जो सिलसिला शुरु किया उसे मायावती ने भी बढ़ाया। पर जब बेगुनाहों का सवाल राजनीतिक सवाल बन कर उभरा तो अखिलेश यादव ने चुनावी घोषणा पत्र में वादा तो किया कि बेगुनाहों को छोड़ने के साथ ही पुर्नवास भी किया जाएगा। लेकिन इस वादे से मुकरते हुए उन्होंने मुसलमानों को न सिर्फ धोका दिया बल्कि उनके पिता मुलायम सिंह ने संसद और बाहर भी लगातार इस झूट को फैलाया कि उनकी सरकार ने बेगुनाहों को छोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि अब चुनाव आते ही मायावती को भी आतंकवाद के नाम पर फंसाए जाने वाले बेगुनाह मुस्लिम याद आने लगे हैं।
राजीव यादव ने कहा कि अपने को सीबीआई से बचाने के लिए मायावती जितनी मेहनत करती हैं और अखिलेश यादव अपने भाई-बंधुओं को बचाने के लिए जितनी तत्परता से यादव सिंह जैसे भ्रष्टाचारी के मामले में सुप्रिम कोर्ट पहुंच जाते हैं वैसी तत्परता बेगुनाओं की रिहाई के लिए मायावती और अखिलेश क्यों नहीं दिखाते। उन्होंने अखिलेश और मायावती सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि आतंकवाद के नाम पर कैद आरोपियों को सबसे कम जमानत उत्तर प्रदेश में ही मिलती है जबकि यहां मुसलमानों के वोट से ही कथित सेकुलर सरकारें बतनी रही हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि मायावती और अखिलेश हिंदू वोटों की नाराजगी के डर से मुसलमानों को जेल में रखते हैं।


 
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s