स्वच्छ भारत सिर्फ दलितों की जिम्मेदारी नहीं है, अब साफ करो संघियों – Dilip Mandal

अभी-अभी

विश्व हिंदू परिषद, गुजरात प्रदेश ने गाय की खाल उतार रहे दलितों पर अत्याचार की निंदा की है…. कड़े शब्दों में. 

VHP.jpg

मोहन भागवत अपनी गोमाता का अंतिम संस्कार कर लें, फिर इस पर विचार किया जा सकता है.

विश्व हिंदू परिषद को मालूम है कि जिस दिन दलितों और पिछड़ों ने गुलामी छोड़ दी उस दिन सवर्ण हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएंगे. मुसलमानों से तीन प्रतिशत कम.

और अब राजकोट हाईवे पर गोमाताओं की लाश रखकर ट्रैफिक जाम और प्रदर्शन…पूरा गुजरात उबल रहा है. मुख्यमंत्री को तत्काल इस्तीफा देना चाहिए. पीड़ित दलितों को 50 लाख करके मुआवजा, सरकारी नौकरी. गौ-आतंकवादियों पर धारा 307 और दलित उत्पीड़न निवारण एक्ट के तहत मुकदमा. फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई

Gujarat 1.jpg

यह सवर्ण जुल्मों के खिलाफ दलित – बहुजन प्रतिरोध की सुनामी है. ताजा तस्वीर गुजरात के जामनगर से.

Jamnagar.jpg

 

गुजरात के एक नगरपालिका ऑफिस में सजावट का सामान लाते दलित. स्वच्छ भारत सिर्फ दलितों की जिम्मेदारी नहीं है. कल दोपहर की तस्वीर…. यह गाय-आतंकवाद संघ को बहुत महंगा पड़ेगा.

अब साफ करो संघियों

Cows carcass

गुजरात जल रहा है. दलितों पर गौ-तालीबान के अत्याचार के विरोध में शहर के शहर बंद हैं. सड़कें जाम हैं.

लेकिन राष्ट्रीय मीडिया, चैनल और अखबार मुंह में दही जमाए बैठे हैं. अंतरराष्ट्रीय मीडिया में यह खबर है. BBC पढ़िए.

राष्ट्रीय मीडिया, संपादक, एंकर सब सदमे में हैं, मानों गोमाता का अंतिम संस्कार करने उन्हें ही जाना है.

पूरा राष्ट्रीय मीडिया एक पवित्र धागे से बंधा है.

शुक्र है कि सोशल मीडिया है. बहुजन पब्लिक स्फीयर अब चैनलों और अखबारों का मोहताज नहीं है.

राष्ट्रपुरोहित मोहन भागवत गुजरात में सड़क पर पड़ी अपनी माता का अंतिम संस्कार करने में आनाकानी कर रहे हैं…. दो दिन हो गए. आप लोग उन्हें समझाते क्यों नहीं?

Mohan Bhagwat.jpg

यह तो गंदी बात है.

संघ के त्योहार गुरु पूर्णिमा पर रोहित वेमुला और डेल्टा मेघवाल को याद करते हुए, जिन्हें उनके गुरु ही खा गए.

Guru purnima.jpg

साल की शुरुआत में रोहित वेमुला की सांस्थानिक हत्या के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय स्तर का आंदोलन, फिर राजस्थान में डेल्टा मेघवाल की हत्या की देश भर में जबर्दस्त प्रतिक्रिया और अब गुजरात में दलितों का शानदार प्रतिरोध….

Nagpur.jpg

Delta.jpg

Rohith

मेरे लिए इसके तीन मायने हैं.

1. दलितों ने जुल्म सहने से मना कर दिया है .
2. दलितों को समाज के तमाम न्यायप्रिय तबकों का समर्थन मिल रहा है. खासकर दलित और मुसलमानों की एकता के मजबूत सूत्र उभरे हैं .
3. चैनल और अखबार इनके आंदोलन की अनदेखी करते थे. इसलिए फेसबुक, WhatsApp, और इंटरनेट पर इन्होंने अपना ताकतवर मीडिया बना लिया है. ये आंदोलन किसी चैनल और अखबार के मोहताज नहीं हैं.

Brahmin.jpg

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s