“ये लौंडे कैदियों का कई रात ‘काम चला’ सकते हैं”,कहा अनिल दिक्षित ने

Screen_Shot_2016-02-24_at_1_56_31_pm (1).png

दक्षिणपंथी राजनीति हो या वामपंथी राजनीति बलात्कार का समर्थन क्या कोई सभ्य समाज का मनुष्य कर सकता है?

पूर्व पत्रकार, वर्तमान हिंसक मनोरोगी!

भाषा, किसी भी संस्कृति का अहम चिह्न है और इस लिहाज से वैसे भी संघ और उसके हिंदुत्व के समर्थकों की भाषा, लगातार उनकी संस्कृति की पहचान रही है। पिछले 30 सालों में आरएसएस या विहिप से जुड़े कट्टरपंथी-विक्षिप्त लोग, लगातार मीडिया में अपने सम्पर्कों के दम पर नौकरियां जुगाड़ते आए हैं और आज ऊंचे पदों पर हैं। यह सायास ही नहीं है कि तमाम मीडिया, इस वक्त हिंदू कट्टरपंथ और अंधराष्ट्रवाद को भड़काने में लगी है। अनिल दीक्षित नाम के इस शख्स (पत्रकार कहना, पत्रकारिता का अपमान है) उसी श्रृंखला की छोटी सी कड़ी है। इनकी भाषा का संक्षिप्त विश्लेषण इस तरह देखिए…

जेएनयू में वामपंथ की काली कोख
**************************************************
दरअसल यह मुहावरा, काली कोख, सिर्फ वामपंथ से वैचारिक विरोध से नहीं आता है। यह महिलाओं के खिलाफ भी छुपे हुए नज़रिए का प्रतीक है। वरना कोख, जो कि ओवरी के लिए प्रयोग होता है, उसकी जगह स्रोत का कोई और विकल्प भी इस्तेमाल किया जा सकता था।

इनकी भी धुनाई चाहिए, वकील करें या जेल में कैदी
**************************************************************
जेल के अंदर किसी व्यक्ति को न्यायिक सुरक्षा प्राप्त होती है, जो अदालत और संविधान की शक्ति से संचालित है। साफ है कि अनिल दीक्षित नाम का यह व्यक्ति आपराधिक प्रवृत्ति का व्यक्ति है, जो क़ानून को या संविधान को कुछ नहीं समझता।

ये लौंडे कैदियों का कई रात ‘काम चला’ सकते हैं
*******************************************************
हालांकि इसके ज़रिए इस मनोरोगी ने एक तरह से समलैंगिकता के समाज में होने को मान्यता दे दी है, लेकिन यह बात यह यौन उत्पीड़न और यंत्रणा के संदर्भ में कर रहा है। मतलब साफ है कि यह व्यक्ति बदला लेने के लिए किसी के यौन उत्पीड़न का सही मानता है। मतलब मूल प्रवृत्ति में ही यह ख़तरनाक़ मनोरोगी है और कभी ख़ुद भी ऐसा कर चुका है या कर सकता है। इसको पागलखाने भेजे जाने की ज़रूरत है। हैरानी है कि इसको ऐसे बड़े अखबार ने सम्पादक बनाया हुआ है।

बलात्कार का मज़ा
**************************************
जिस तरह से यह व्यक्ति बलात्कार को किसी वैचारिक विरोध की सज़ा के तौर पर इस्तेमाल करने का हिमायती है। कल को संभव है कि यह वैचारिक विरोध किसी महिला की ओर से आए, तब भी यह ऐसे ही तरीके का समर्थन करे। ऐसे व्यक्ति की जगह भी जेल या पागलखाना ही है। ज़रा सोच कर देखिए कि किसी भी स्थिति में बलात्कार को सज़ा के तौर पर देखने वाला व्यक्ति आखिर कितना समझदार हो सकता है।

इसकी भाषा के विश्लेषण के आधार पर यह व्यक्ति न केवल यौन कुंठित है, बल्कि हिंसक रूप से मनोरोग के स्तर पर है। इसके जितनी जल्दी हो इलाज की ज़रूरत है। दुर्भाग्य यह तो है ही कि यह एक बड़े मीडिया संस्थान में ऐसे पद पर है, जहां और लोगों पर भी असर डालता है, बल्कि बड़ा दुर्भाग्य यह है कि यह देश ऐसे ही लोगों की पागल भीड़ में बदलता जा रहा है।

क्या  इस पर कोई कार्रवाई करेगा?

मयंक  सक्सेना

(लेखक पूर्व टीवी पत्रकार हैं। टेलीविजन, रेडियो और प्रिंट समाचार मीडिया में एक दशक से अधिक काअनुभव, फिलहाल स्वतंत्र लेखन करते हैं।)

Read: Umar Khalid and Anirban Bhattacharya should be thrashed, raped in custody: Agra Lawyer

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s