Watch: Why is JNU dangerous?

 

नई दिल्ली। आईसा की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुचेता डे के भाषण का एक वीडियो यू ट्यूब पर धूम मचा रहा है। इस भाषण में सुचेता डे नेशन वान्ट्स टू नो के जुमले से पुकारे जाने वाले एंकर अर्णव गोस्वामी, ज़ी न्यूज़ के संपादक सुधीर चौधरी पर टिप्पणी करती सुनाई पड़ती हैं। इस वीडियो को AISA के एकाउंट से यू ट्यूब पर अपलोड किया गया है। सुचेता कह रहबी हैं- गोडसे की औलादों भगत सिंह-चंद्रशेखर की औलादों को देशभक्ति मत सिखाओ।

सुचेता डे ने मीडिया पर अपनी टिप्पणी फेसबुक पर पोस्ट की है, जो निम्नवत है (सुचेता डे के भाषण का वीडियो नीचे है)

A very powerful speech by AISA President Sucheta. Talking of what #‎JNU means for the sons and daughters of poor and oppressed people, who come to the campus to find freedom, and whom JNU embraces and turns into campus leaders, academics. She talks of JNUSU President Kanhaiyya, whose mother is an anganwadi worker, JNUSU GS Rama who is from a poor Dalit home in Koraput, and of JNU’s women students who find freedom and equality in JNU.
From #‎RohithVemula to Kanhaiyya Kumar and Rama Naga, they want to brand dissenting students as anti national. It’s no coincidence that of the 8 students JNU has debarred from academic activity, most of whom face sedition charges, most are Dalit or Bahujan, including the present SL Convenor Shweta Raj, the ex JNUSU President Ashutosh and ex JNUSU VP Anant. From HCU to JNU to IITs to FTII, save Constitution, save democracy, save Universities!

Advertisements